सीतापुर : पुलिस लाइन में कैंटीन के पीछे क्वारंटाइन केंद्र है। यहां पुरुष वर्ग के उन कर्मियों क्वारंटाइन किया गया है जो छुट्टी के बाद घर से लौटे हैं। गुरुवार दोपहर 12 बजे के दौरान इस केंद्र में 11 पुलिस कर्मी मिले। इस क्वारंटाइन केंद्र के अंदर 13 बेड पड़े थे। तीन पर चादर नहीं थी। कुछ बेड जर्जर थे। फोल्डिग चारपाई पर लेटे दारोगा ने कहा, देखो एक अदद चादर तक नहीं दी है। इस क्वारंटाइन केंद्र के अंदर कुल चार पुराने पंखे लगे हैं। दो चालू हैं। तीन टेबल फैन हैं इसमें भी एक खराब बताया गया। क्वारंटाइन कर्मियों ने बताया, वाटरकूलर खराब है। भोजन वे लोग मेस में करने जाते हैं। शौचालय दूर बने हैं, इनकी दशा खराब है। जिला प्रशिक्षण केंद्र के सामने बने 18 पुराने अस्थाई शौचालय जर्जर हैं। कई में पल्ले नहीं, पानी की भी दिक्कत है। टैंक जर्जर व खुले हैं।

अव्यवस्था से नाराज दिखे कर्मी

क्वारंटाइन पुलिसकर्मियों ने बताया, उनमें कुछ की ड्यूटी हॉट स्पॉट खैराबाद क्षेत्र में लगी थी। वहीं से सीधे उन्हें पांच दिन की छुट्टी पर घर भेज दिया गया। उसके बाद ड्यूटी पर लौटे हैं तो उन्हें क्वारंटाइन किया गया है। उनका तर्क ये था कि ड्यूटी से सीधे उन्हें छुट्टी पर घर नहीं भेजा जाना चाहिए था उनके घर भी माता-पिता और पत्नी-बच्चे हैं। पुलिसकर्मियों ने कहा, हॉट स्पॉट में वे ड्यूटी किए हैं यदि उनमें कहीं कोरोना संक्रमण निकल आया तो उनका पूरा परिवार भी प्रभावित हो जाएगा।

अस्पताल में जड़ा ताला

छुट्टी से लौटी महिला पुलिस कर्मियों को पुलिस लाइन के अस्पताल में क्वारंटाइन किया जा रहा है पर यहां गुरुवार को ताला लगा मिला।

बोले, प्रतिसार निरीक्षक

प्रतिसार निरीक्षक (आरआइ) चंद्र प्रकाश मिश्र ने बताया, वर्तमान में पुरुष क्वारंटाइन केंद्र में 24 व अस्पताल में छह महिला पुलिस कर्मी क्वारंटाइन हैं। ये वे लोग हैं जो रेड व ऑरेंज जोन के जिलों से छुट्टी से लौटे हैं। इन्हें सात दिन क्वारंटाइन कर फिर उनके स्वास्थ्य परीक्षण आदि के बाद 10वें दिन ड्यूटी पर रवाना करते हैं। कहा, महिला अस्पताल में सामने गेट में ताला लगा है पर पीछे गेट खुला है। कहा, पंखे खराब हैं ठीक करा देंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस