सीतापुर : कोविड वैक्सीनेशन में सीएचसी-पीएचसी स्तर पर जिम्मेदार रुचि नहीं ले रहे है। यह बात बुधवार को एसीएमओ डॉ. पीके सिंह के मौका मुआयना में सामने आई है। डॉ. पीके सिंह दोपहर एक बजे सांडा सीएचसी पहुंचे। यहां पर कोविड वैक्सीनेशन के लिए लगी टीम में सरिता वैश्य, शशि कांति व उपासना बैठी थीं। पूछने पर इन लोगों ने एसीएमओ को बताया, टीका कराने को अभी तक कोई लाभार्थी ही नहीं आया है। वैक्सीनेशन सेंटर पर ऐसा कोई आदमी नहीं लगाया गया था जो लाभार्थियों को फोन कर दूसरी डोज का टीका लगवाने के लिए फोन कर रहा हो। एसीएमओ ने बताया, प्रत्येक वैक्सीनेशन सेंटर पर दूसरी डोज के टीका से वंचित लाभार्थियों में हर रोज सौ-सवा सौ लोगों को बुलाकर उनको टीका करना है। यहां पर सीएचसी अधीक्षक एसीएमओ को मिले, पर वैक्सीनेशन के लिए अधीक्षक की तरफ से कोई प्रयास एसीएमओ को देखने को नहीं मिला। अधीक्षक ने आशाओं को बुलाया था, न ही उन्हें लाभार्थियों के संबंध में कोई जानकारी दी गई थी।

लिस्ट न सर्वे और न ही टीकाकरण, कर्मी भी गैर हाजिर

एसीएमओ ने बताया, सांडा सीएचसी पर आरबीएसके की डॉ. निहाबानो थीं। यह 9, 10 व 11 मई को अनुपस्थित थीं। आयुष्मान मित्र लक्ष्मी नारायण वर्मा कई दिन से गैर हाजिर था। मुहम्मद शोएब 11 व 12 मई को अनुपस्थित थे। फेमिली वेलफेयर काउंसिलिग नीतू 12 मई को अनुपस्थित थीं। इसके बाद एसीएमओ पड़ोस में दूसरे वैक्सीनेशन सेंटर प्राथमिक विद्यालय किरतापुर पहुंचे। यहां टीम मिली, पर कर्मियों के पास दूसरी डोज से वंचित लाभार्थियों की सूची नहीं थी। कर्मियों ने दोपहर 1.38 बजे तक 20 लाभार्थियों को टीका लगाया था। आशा रजनी, रेखा तिवारी बैठी थीं। इनके पास लाभार्थियों की सूची नहीं थी। सर्वे भी अपडेट नहीं था। यहां सुपरवाइजर भी नहीं था।

रेउसा सीएचसी पर भी वैक्सीनेशन का बुरा हाल: एसीएमओ डॉ. पीके सिंह को रेउसा सीएचसी पर भी वैक्सीनेशन का हाल काफी खराब मिला। अधीक्षक ने कोई प्लानिग नहीं की थी। सेवता पीएचसी पर एसीएमओ ने आशाओं को बुलाकर मीटिग की।

Edited By: Jagran