सीतापुर : गनेरा सभापुर मार्ग के किनारे बीते दिनों जंगल में हुई गोकशी की घटना का राजफाश पुलिस ने कर दिया है। पुलिस ने पांच अंतरजनपदीय गोकशों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। थानाध्यक्ष अवधेश यादव ने बताया, सोमवार को उन्हें गो तस्करों के बारे में खबर मिली थी तो उन्होंने फोर्स के साथ नीलगाव कृषि प्रक्षेत्र के जंगल में छापेमारी की। यहां से उन्होंने पांच संदिग्धों को धर दबोचा। पूछताछ में अभियुक्तों ने सभापुर के जंगल में प्रतिबंधित पशुओं के वध के संबंध घटना कबूल की है। जामा तलाशी में पांचों अभियुक्तों के कब्जे से रस्सा व धारदार हथियार बरामद हुए हैं। गिरफ्तार अभियुक्तों ने अपना नाम बाबू बंजारा व फैशल बंजारा निवासीगण भवानीपुर थाना इंटौजा-लखनऊ, शाकिब उर्फ टुांडा निवासी शेख सरांय थाना खैराबाद, रमेश पासी निवासी पहाड़़ापुर थाना अटरिया बताया जा है। इनके एक साथी हबीबुल रहमान ने अपने को लखनऊ के थाना मड़ियावां के मुहल्ला फैजुल्लागंज नई बस्ती का निवासी होना बताया है। इन अभियुक्तों ने पुलिस की पूछताछ में स्वीकार किया है कि उन लोगों ने दो जून की रात गनेरा-सभापुर मार्ग किनारे जंगल में अन्य लोगों के साथ गोवंशों का वध किया था। उनके मांस को लखनऊ शहर की एक विशेष जाति की बस्ती में बिक्री किया था। इन अभियुक्तों ने इससे पहले भी कई जिलों में की गईं गोकशी की घटनाओं को स्वीकार किया है। पुलिस ने निशानदेही पर घटनास्थल से कुछ दूरी पर मेंथा के खेत व नहर में फेंके गए पांच गोवंशों के सिर बरामद किए हैं। पुलिस ने पकड़े गए अभियुक्तों को जेल भेजा है। सफलता के बाद मिली राहत

गनेरा-सभापुर मार्ग पर जंगल में गोकशी के बाद क्षेत्र में तनाव की स्थिति थी। मौके को भांपकर घटना के दूसरे दिन दोपहर को खुद एसपी आरपी सिंह थाने पहुंचे थे। राजफाश के लिए कई थानों की पुलिस टीमों को लगा दिया था। घटना के बाद क्षेत्रीय लोगों को कार्रवाई का भरोसा दिलाने और पुलिस टीमों की मानीटरिग के लिए एसपी ने एएसपी साउथ नरेंद्र प्रताप सिंह को जिम्मा सौंपा था। एएसपी साउथ व सीओ सिधौली लगातार अटरिया थाने में कैंप कर रहे थे।

इस टीम को मिली सफलता

थाना प्रभारी अवधेश यादव, एसएसआइ दीपक पांडेय, दारोगा जितेंद्र कुमार व दिनेश बहादुर, कांस्टेबल अरुण पाल, विजय, पवन, आस मोहम्मद।

Edited By: Jagran