सीतापुर, जेएनएन। जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां दूल्हा बरात लेकर अपनी दुल्हन लेने उसके द्वार पहुंचा। लेकिन बैंड-बाजा और डीजे न होने पर वर और वधू पक्ष में कहासुनी हो गई। मामला कुछ संभला ही था कि दूल्हे के पिता की एक और डिमांड आ गई। दुल्हन को जैसे ही खबर लगी वी बिफर पड़ी और शादी से इन्कार कर दिया। दूल्हे को बगैर दुल्हन ही बैरंग बाराबंकी लौटना पड़ा। 

ये है पूरा मामला  

मामला सदरपुर थाना क्षेत्र के गांव मीनापुर जहांगीराबाद का है। यहां के निवासी विशुन कुमार नंद की बेटी चांदनी की शादी बाराबंकी जिले के फतेहपुर थाना क्षेत्र के गांव गौरा गजनीपुर निवासी तीरथराम नंद के बेटे अनूप के साथ तय हुआ।12 मई को शादी की तारीख पक्की हुई। रविवार को बरात लेकर दुल्हा अनूप लड़की पक्ष के दरवाजे पर पहुंचा। तभी बैंड-बाजा व डीजे न होने को लेकर वर व कन्या पक्ष में कहासुनी हो गई।


चेन की मांग से फिर बिगड़ा मामला 

रिश्तेदारों व ग्रामीणों ने समझा बुझाकर मामला शांत कराया। जिसके बाद बराती नाचते गाते कन्या के दरवाजे पर पहुंचे। यहां पर द्वार पूजन के दौरान ही दूल्हे व उसके पिता ने सोने की चेन की मांग रख दी। इसको लेकर दोनों पक्षों में फिर से कहासुनी होने लगी।

दुल्हन ने किया शादी से इन्कार 

तकरार इस कदर बढ़ी कि बात दुल्हन तक जा पहुंची। इसपर दुल्हन बिफर पड़ी। आरोप था कि दूल्हे के पिता ने शराब पी रखी है और बेवजह ही हंगामा कर रहा है। यह आरोप लगाते हुए दुल्हन ने विवाह करने से इन्कार कर दिया। उसके इन्कार करते ही हड़कंप मच गया। लोगों ने समझाने का प्रयास किया। सोमवार को पंचायत बुलाई गई। दोपहर तक गांव में ही सुलह समझौते का दौर चलता रहा, लेकिन कन्या विवाह न करने की जिद पर अड़ गई। इसके बाद बरात को बिना दुल्हन बैरंग ही लौटना पड़ा।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Divyansh Rastogi