सीतापुर: नगर पालिका परिषद सभागार में की बोर्ड बैठक हुई। बैठक में पालिका अध्यक्ष राधेश्याम जायसवाल की अध्यक्षता व अधिशासी अधिकारी वैभव त्रिपाठी की मौजूदगी में कई प्रस्तावों पर सभासदों ने सहमति जताई। बैठक में नगर क्षेत्र के विकास संबंधी विषयों पर सभासदों से प्रस्तावों पर चर्चा हुई। जिसमें अवैध वाटर सर्विस स्टेशनों पर कार्रवाई की जाएगी। खुले में कूड़ा, मलवा डालने पर जुर्माना का प्राविधान किया गया। इसके साथ ही शहर के मुख्य मार्गों के किनारे पौधारोपण किया जाएगा। शहरी क्षेत्र में संचालित डेयरियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। नगर पालिका अध्यक्ष राधेश्याम जायसवाल ने बायो फाइटो रेमिडिएशन कराने व नालों पर जाली लगाने का प्रस्ताव पास किया। नगर में डेंगू, मलेरिया व अन्य संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिए दावा का छिड़काव कराया जाएगा। जलसंरक्षण के लिए पार्कों, इमारतों, सार्वजनिक स्थलों पर रेन वाटर हार्वेस्टिग सिस्टम लगाने की बात कही। नगर के अंदर प्रकाश व्यवस्था के लिए लगे खंभों की रंगाई पुताई का काम कराया जाएगा। काशीराम कालोनी की रंगाई पुताई की जाएगी। ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए स्थान की व्यवस्था कराए जाने की पुष्टि की गई। आउट सोर्सिंग ठेका कर्मचारियों की नियुक्ति पूर्ण कराने की बात की गई। कर्मचारियों की आनलाइन उपस्थित, लोकेशन के लिए जीपीएस घड़ी देने की बात कही गई। नगर पालिका परिषद कार्यालय को सोलर पैनल से युक्त करने पर बात बनी। बैठक में सभासद कंचन मेहरोत्रा, धीरज पांडेय, संजय राठौर, आयुष दीक्षित, प्रदीप गुप्ता, नितिन सिंह मौजूद रहे।

सभासदों ने किया हंगामा, एडीएम ने एसडीएम को सौंपी जांच

सीतापुर: अपर जिलाधिकारी हरि शंकर लाल ने एसडीएम सदर अमित भट्ट को नोटिस देते हुए जांच आख्या नियत समय के अंदर न देने पर नाराजगी जाहिर की है।बैठक में हंगामा करते हुए एडीएम से शिकायत भी है। जिस पर एडीएम ने एकबार फिर एसडीएम से जांच आख्या देने को कहा है। दरअसल नगर पालिका परिषद के सभासदों ने बोर्ड सुमन मिश्रा के साथ मिलकर ज्ञापन दिया था। जिसमें 6 सितंबर को 36 निर्माण कार्यों को बिना बोर्ड प्रस्ताव के डेंटर कराने पर आपत्ति दर्ज कराई थी। सभासदों ने टेंडर निरस्त कराने की मांग की थी। इस पर एडीएम ने एसडीए को एक सप्ताह में जांच आख्या देने को कहा था। दो सप्ताह बीत जाने के बाद भी आख्या नहीं दी गई है। सुमन मिश्रा व अन्य सभासदों ने 13 सितंबर को एडवोकेट एसके सिंह के माध्यम से प्रार्थनापत्र दिया। सभासद प्रदीप गुप्ता ने 22 सितंबर को डीएम के शिविर कार्यालय में जांच कराने की मांग की। 25 सितंबर को बोर्ड बैठक में एक बार फिर सुमन मिश्रा व सभासदों ने हंगामा भी किया। सभासद एडीएम से भी मिले। एडीएम ने एसडीएम सदर से सभासदों का पक्ष सुनकर मामले की जांच कर आख्या प्रस्तुत करने को कहा है।

Edited By: Jagran