सिद्धार्थनगर: डुमरियागंज ब्लाक में 135 ग्राम पंचायतों के खाते करीब तीन माह से बंद हैं। नई व्यवस्था के तहत प्रिया साफ्ट पर डोंगल इनिशिएट कर खातों को अपडेट करना था। जिसमें विवरण भरने उपरांत डोंगल चालू होता, लेकिन ब्लाक के करीब दो दर्जन गांव जिनमें भलुवाही, रसूलपुर, कुंडी, असनहरा, वासाचक, लटिया, भड़रिया, हबीबपुर, बेवा मुस्तफा, तुरकौलिया आदि गांव के डोंगल जब प्रिया साफ्ट पर इनिशिएट किया जाता है तो पेज ही ब्लैंक हो जा रहा है। अधिकांश गांव के पीएफएमएस के खाते गलत फीड होने व एलजी डी मैपिग आदि में कमी के कारण खाते अपडेट नहीं हो पा रहे हैं। जिससे प्रधानों का सिरदर्द बढ़ गया है। कायाकल्प समेत अन्य कार्य प्रधानों ने अपने जेब से करवा दिया था परन्तु अब भुगतान को तरस रहे हैं ।

करीब चार माह से खातों पर रोक लगने कारण विकास कार्य ठप हो गए हैं। जो कार्य कराया गया था उसका भी पैसा नहीं मिल पा रहा है।

दुकानदार व मनरेगा मजदूर समेत स्कूलों का कायाकल्प योजना के तहत कराए गए कार्य के भुगतान न होने पाने कारण आर्थिक समस्या उत्पन्न हो गई है। खातों के अपडेटिग के कारण चार माह से धनराशि न निकलने से कराए गए विकास के कार्यों का पैसा मांगने मनरेगा मजदूर से लगायत दुकानदार घर पहुंचने लगे हैं।

खातों में डोंगल व्यवस्था लागू होने में तकनीकी कमी होने की दिक्कत के कारण विकास कार्य बंद पड़ा हुआ है। चुनाव की सुगबुगाहट शुरू हो गई है ऐसे में समस्या विकट है।

डीपीआरओ डा. सुधीर श्रीवास्तव ने कहा कि उक्त समस्या को प्रमुख सचिव के समक्ष उठाया गया है। सप्ताह भीतर समस्या निस्तारित हो जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप