सिद्धार्थनगर: आशा कार्यकर्ताओं ने रविवार को सीएचसी इटवा परिसर में धरना-प्रदर्शन किया। प्रदेश सरकार पर शोषण करने का आरोप लगाया। मांगें न पूरी होने पर आंदोलन की चेतावनी दिया। सीएचसी अधीक्षक डा. बीके वैद्य को ज्ञापन सौंपा। सुभावती देवी ने कहा कि शासन व प्रशासन आशा कार्यकर्ताओं का शोषण कर रहा है। कई विभागों के कामों में लगा दिया जाता है। मानदेय के नाम पर केवल 1500 रुपये दिया जा रहा है। अतिरिक्त कार्य का भुगतान नहीं किया जाता है। लगातार मांग के बाद भी सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही है। इसको देखते हुए कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतरने की ठान ली है। आशा व संगिनियों को केंद्रीय कर्मचारी का दर्जा देने की मांग का समाधान नहीं दिया जा रहा है। अगर मांगों का अतिशीघ्र फैसला नहीं हुआ तो आंदोलन शुरू किया जाएगा। इस दौरान सीता ¨सह, इंदू देवी, सावित्री, अनवरी, किशलावती, पूजा, किरन, कुसुमलता, धानमती, सोना, रेखा, सुनीता, रागिनी आदि मौजूद है।।

Posted By: Jagran