डुमरियागंज: साधन सहकारी समितियों के भवन ही जब जर्जर हों तो खाद और बीज के लिए किसानों की क्या स्थिति होगी इसे बखूबी समझा जा सकता है। ग्रामीण क्षेत्रों की बात तो छोड़िए कस्बे में स्थापित साधन सहकारी समिति बदहाली के चलते न सिर्फ निष्प्रयोज्य पड़ी है बल्कि इसकी जमीन पर भी अतिक्रमण है। जायद की बोआई के बाद खाद की जरूरत है। लेकिन जब समितियां ही सक्रिय नहीं तो खाद सरकारी रेट पर मिले कैसे। किसान जरूरत के अनुरूप प्राइवेट दुकानों से मंहगे रेट पर सिर्फ खाद ही नहीं बीज भी खरीदने को मजबूर हैं। चौरा बनगवां की साधन सहकारी समिति को भानपुर रानी से लगभग पांच वर्ष पहले अटैच कर दिया गया। बनगवां की जर्जर समिति पर एक दर्जन गांवों की जिम्मेदारी थी अब इन्हें खाद बीज के लिए लंबा चक्कर लगाना पड़ता है। जिस समिति से इसे अटैच किया गया है, उसकी हालत भी कुछ बेहतर नहीं। इसपर 150 गांव के किसानों की जिम्मेदारी है। खाद बीज कब आया और कब समाप्त हो गया, कोई नहीं जान पाता। चकचई और महुआरा साधन सहकारी समिति हो अथवा भनवापुर ब्लाक की हटवा, भनवापुर, धनोहरी, रमवापुर जगतराम, गौरा पंचगोटी समिति का हाल एक जैसा है। समिति की जर्जरता के चलते यहां खाद बीज नहीं पहुंचता। जिला कृषि अधिकारी सीपी सिंह ने बताया कि जर्जर समितियों के भवन की की मरम्मत व निर्माण का प्रस्ताव जिला कार्ययोजना की बैठक में रखा गया है। कुछ जगहों पर खाद बीज के लिए अलग भवनों की व्यवस्था की जा रही है। भर आई नव निर्वाचित प्रधान की आंखें सिद्धार्थनगर : विकास खण्ड के ग्राम पंचायत बरगदवा में प्रधान पद पर हुए उपचुनाव में प्रधान पति के मौत के बाद ग्रामीणों ने उनकी पत्नी पर विश्वास जताया है। 289 मतों से जीत दर्ज करा कर वह अपने पति राजेश चौधरी उर्फ गुड्डू चौधरी के ग्राम पंचायत के विकास का सपना पूरा करने का समर्थकों को दिलाया।

नव निर्वाचित प्रधान उमा देवी ने कहा बहन, बेटी बन आप सबके साथ ग्राम पंचायत का विकास करूंगी। सोमवार को आरओ तेजू सिंह से प्रमाण पत्र लेते समय नव निर्वाचित प्रधान की आंखे भर आई। उन्होंने कहा मैं राजनीति में नहीं आती लेकिन ग्राम पंचायत की जनता का इतना स्नेह था की पति की मौत के बाद मुझे अकेले नहीं होने दिया। हम व हमारा परिवार सदैव ग्राम पंचायत की जनता के प्रति आभारी हैं। ग्रापं सदस्य का लाटरी से फैसला

सिद्धार्थनगर : उसका बाजार ब्लाक क्षेत्र में ग्राम पंचायत वार्ड सदस्य के एक पद का फैसला सोमवार को लाटरी से हुआ। ग्राम पंचायत सरौली के वार्ड संख्या चार में सदस्य पद के लिए दो प्रत्याशी आमने-सामने थे। कुल 62 लोगों ने मतदान किया। मतगणना पर्वेक्षक सुजीत कुमार जायसवाल ने बताया कि मतगणना में दोनों प्रत्याशी कोमल व जगमोहन को 31-31 मत मिले। इस स्थिति में दोनों प्रत्याशियों के आपसी सहमति से लाटरी निकाली गई। जिसमें कोमल विजयी घोषित हुए।

Edited By: Jagran