सिद्धार्थनगर : नवागत बेसिक शिक्षा अधिकारी देवेंद्र कुमार पांडेय ने सोमवार को पदभार संभाला। अपने कार्यालय में खंड शिक्षा अधिकारियों संग बैठक कर विकासखंड वार विभागीय योजनाओं के प्रगति की समीक्षा की। कहा कि सारे कार्यों को पारदर्शी तरीके से निपटाना होगा। यह भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षकों से जुड़ी कोई समस्या लंबित न रहने पाए। बीएसए ने स्पष्ट रूप से कहा कि किसी भी शिक्षक के पास कोई प्रभार नहीं रहेगा और बीएसए कार्यालय में बाहरी लोगों का अनावश्यक भीड़ लगाना वर्जित रहेगा। खंड शिक्षा अधिकारी भी अपने कार्यालय में बेवजह शिक्षकों को न बुलाएं। शिक्षक निर्धारित समय पर अपने स्कूल में ही रहें। बीएसए ने कहा कि बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित विद्यालयों में कक्षा एक से आठ तक नामांकित सौ फीसद बच्चों का डीबीटी कार्य शीघ्र पूरा होना है, जिससे शासन की प्राथमिकता के अनुसार अभिभावकों ़के खातों में बच्चों ़के यूनिफार्म, जूता व मोजा, स्वेटर व बैग की धनराशि स्थानांतरित हो सके। बैठक में बीईओ रमेश चंद्र मौर्य, अनिल मिश्र, चंद्र भूषण पांडेय, अखिलेश कुमार सिंह, विजय आनंद, कुंवर विक्रम आदि मौजूद रहे। इसी क्रम में जिला समन्वयक सुरेंद्र श्रीवास्तव, डीपी श्रीवास्तव व रितेश श्रीवास्तव आदि ने बीएसए का स्वागत किया। बैठक के बाद जिला पंचायत सदस्य सुखराज यादव भी बीएसए से मिले और एक स्कूल में बच्चों के नामांकन न होने की शिकायत की, जिसपर बीएसए ने संबंधित खंड शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया की इस तरह की शिकायत न मिले। छात्राओं को पढ़ाया सुरक्षा का पाठ सिद्धार्थनगर : महिलाओं में बढ़ रहे अपराध की रोकथाम के लिए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर सोमवार को ब्लाक मुख्यालय स्थित विकास इंटर कालेज तथा राजकीय महाविद्यालय पचमोहनी की छात्राओं को पुलिस कर्मियों ने सुरक्षा का पाठ पढ़ाया। थाना प्रभारी रविन्द्र सिंह की अगुवाई में महिला आरक्षी उमा दूबे तथा नीरा साहनी ने छात्राओं को 1090, महिला हेल्पलाइन , मुख्यमंत्री हेल्पलाइन, चाइल्ड हेल्पलाइन, साइबर अपराध आदि के बारे में बताया।

महिला आरक्षी उमा दूबे ने कहा कि छात्राएं अपनी समस्याओं को खुलकर नहीं बता पाती हैं। इसलिए मिशन शक्ति के तहत प्रत्येक थाने पर एक महिला हेल्प डेस्क बनाया गया है। जहां बेझिझक आप अपनी समस्या कह सकतीं हैं।कोई भी परेशान करे तो बेहिचक उसकी सूचना हेल्पलाइन नंबरों पर दें। उनका नाम व पहचान गुप्त रखा जाएगा। नीरा साहनी ने कहा कि किसी भी अप्रिय घटना पर चुप्पी न साधें, क्योंकि चुप्पी भविष्य में बड़ी घटना का कारण बन सकती हैं। उन्होंने छात्राओं को परेशान करने वाली बातों को अपनी सहेलियों, शिक्षकों व परिजनों से साझा करने सलाह दी। थाना प्रभारी रविन्द्र सिंह ने कहा कि पढ़ाई में खूब ध्यान दें। आज महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी मेहनत के दम पर शीर्ष पदों पर पहुंच गई है। उपनिरीक्षक रामफल चौरसिया, आरक्षी, जयसिंह, रंजीत यादव आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran