सिद्धार्थनगर : मंगलवार को जागरण जिला कार्यालय पर अधिशासी अधिकारी नगर पालिका व शिकायतकर्ता आमने-सामने बैठे। आइजीआरएस पोर्टल पर दर्ज शिकायतों के निस्तारण नहीं करने का आरोप लगा। नगर की समस्याओं पर चर्चा करते हुए लोगों ने कहा कि जलजमाव, सड़क, बिजली जैसी समस्याओं को दूर करने का नपा प्रयास नहीं कर रही है। पैनल में शामिल लोगों ने कहा कि आइजीआरएस का जवाब देने में उदासीनता बरती जा रही है।

जागरण के समाचारीय अभियान जन सुनवाई के अंतिम पड़ाव पर पाठक पैनल का आयोजन किया गया। नगर के ऐसे समाचार पाठकों ने प्रतिभाग किया, जिन्होंने आइजीआरएस पोर्टल पर समस्याओं से संबंधित शिकायतें दर्ज कराई थी। शिकायतकर्ताओं ने कहा कि शिकायतों का सही जवाब नहीं दिया जाता है। निस्तारण में कहां कमी रह गई, इसे जानने की उन्होंने उत्सुकता दिखाई। ईओ नगर पालिका शैलेंद्र कुमार ने सवालों के जवाब दिए। भीमापार निवासी प्रशस्त उपाध्याय ने कहा कि नगर की विकट समस्या जलजमाव की है, इसे दूर करने की सार्थक पहल अब तक नपा की ओर से नहीं किया गया। बड़ी संख्या में नाला का निर्माण करा दिया गया, लेकिन बारिश के समय पूरा नगर डूबने लगता है। ईओ शैलेंद्र कुमार ने कहा कि नगर में नए सिरे से इंट्रीगेटेड प्लान (चढ़ाव से ढलान की ओर जल निकासी) बनाया जाएगा। सभी नालों की जल निकासी ढलान की ओर की जाएगी। नालों को एक-दूसरे से मिलने की योजना पर भी काम किया जा रहा है। रमजान नगर निवासी राजेश जायसवाल ने कहा कि कागजों में मोहल्लों को ओडीएफ घोषित किया गया है। शौचालयों का निर्माण नहीं हो रहा है। नगर के राहुल नगर, सुभाष नगर, रमजान नगर आदि वार्ड में आज भी लोग खुले में शौच जा रहे है। ईओ ने कहा कि शासन ने मोहल्लों को ओडीएफ घोषित करने के लिए एक कंपनी को नियुक्त किया है। कंपनी के दिशा निर्देशन में शौचालयों का निर्माण जल्द कराया जाएगा। वैसे नगरीय क्षेत्रों के लिए शासनादेश है कि पांच सौ मीटर की परिधि में अगर कोई सामुदायिक शौचालय स्थापित है तो निकटवर्ती वार्ड को ओडीएफ घोषित कर दिया जाए। भीमापार निवासी रमेश चंद्र शुक्ला ने कहा उन्होंने आइजीआरएस पोर्टल पर तीन शिकायत की थी, अभी तक एक भी शिकायत का जवाब नहीं मिला है। नगरीय आवास योजना में धांधली संबंधित शिकायत पर चुप्पी साध लिया गया है। ईओ शैलेंद्र कुमार ने बताया कि शिकायत की जांच जिला अधिकारी कर रहे है। जल्द ही पोर्टल पर की गई शिकायत की निस्तारण किया जाएगा। बुद्धनगर निवासी संपूर्णानंद पांडेय, अजय उपाध्याय आदि ने भी ईओ से शिकायत का निस्तारण नहीं होने की बात कही।

Posted By: Jagran