डुमरियागंज, सिद्धार्थनगर : कोरोना के कारण लॉकडाउन में गैर प्रांत से लौटे मुस्लिम प्रवासियों को विभिन्न केंद्रों पर क्वारंटाइन किया गया है। वे वहीं ईद की नमाज अदा करेंगे। कुछ लोग पहले कोरोना से जंग लड़ेंगे, फिर मनाएंगे ईद। खैर इंटर कालेज बनगवां- डुमरियागंज में कुल 60 में 28 लोग मुस्लिम समुदाय के लोग क्वारंटाइन किए गए हैं। ईद को लेकर बातचीत की गई तो लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया कुछ यूं दी।

--

मुंबई से आए हैं, थर्मल स्क्रीनिग सेंटर सेंट थामस हल्लौर में जांच में तापमान अधिक होने पर खैर इंटर कालेज भवन में क्वारंटाइन हैं। ईद पर परिवार से अलग होना तो बहुत अखरेगा। लेकिन परिवार व समाज की सुरक्षा के ²ष्टिकोण से यहां रहना सही है। ईद तो कोरोना से जंग जीतने के बाद मनेगी।

मेराजुल हक निवासी हटवा- डुमरियागंज

--

अधिक बुखार के वजह से क्वारंटाइन किया गया है। ईद इस बार बिना घर की सेवइयों के मनानी पड़ेगी। यहां जब ढंग से खाने की व्यवस्था नहीं है तो सेंवई मिलना मुश्किल है। इसी भवन में दो लोग संक्रमित निकले थे, न तो सैनिटाइज्ड किया गया न ही पोषक आहार दिया जा रहा है। ईद की नमाज पढ़कर कोरोना से छुटकारे की दुआ मांगेंगे।

इलियास अहमद, निवासी परसा हुसैन

--

पुणे से आए थे हल्का बुखार के वजह से क्वारंटाइन हैं। बच्चे घर पर हैं, यहां आने के बाद परिवार के साथ ईद मनाने का मौका मिलता तो तो और खुशी होती। लेकिन हालात की बिना पर यही रह कर परिवार से दूर रहना बुरा तो लगेगा ही। मगर ईद की नमाज यही अदा करके खुदा से परेशानियों से निजात की दुआ करेंगे।

चिनकन अहमद, निवासी मूड़ाडीहा

.....

बोले जिम्मेदार

मुस्लिम वर्ग के लोगों के क्वारंटाइन भवन में ईद की नमाज अदा करने के लिए जरूरी इंतजाम किया गया है। किसी को नमाज पढ़ने में दुश्वारी नहीं होने पाएगी।

त्रिभुवन,उपजिलाधिकारी डुमरियागंज

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस