सिद्धार्थनगर : कोविड-19 संक्रमण ने तमाम लोगों की जिंदगियां छीन लीं। मृतकों के कितने बच्चे अनाथ हुए। महंगाई और आर्थिक तंगी से उन्हें खाने के लाले पडने लगे। ऐसे में उनके दुख तकलीफ को कम करने और उनका सहारा बने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन बच्चों को जिनके माता-पिता व किसी एक की मृत्यु हुई है। उन्हें मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत प्रतिमाह चार हजार रुपए की आर्थिक सहायता की जायेगी।

जोगिया गांव के योगमाया डीह में संक्रमित महिला सहित दो लोगों की मौत हुई थी। दोनों का सीएचसी जोगिया में एंटीजन टेस्ट हुआ था, जिसमें वह संक्रमित पाये गये थे। मई में जोगिया गांव के योगमाया डीह निवासी वीरेंद्र पासवान कोरोना संक्रमित हुए थे । सीएचसी में इनका एंटीजन टेस्ट किया गया था। दो दिन के अंदर ही उनकी मौत हो गई। मृतक के पीछे दो पुत्र व एक पुत्री हैं, जिसमें दो नाबालिग हैं छोटी पुत्री है। जोगिया गांव के योगमाया डीह की दयारती पत्नी बद्री लाल की भी मौत कोरोना से हुई। वह अप्रैल माह में संक्रमित हुई थीं। एंटीजन टेस्ट में पा•ाटिव पाई गई थीं। घर में क्वारंटाइन किया गया था। इनके पीछे बेरोजगार पति व चार पुत्री व एक पुत्र हैं, छोटी बेटी गुड़िया नौवीं की छात्रा है। जोगिया गांव के योगमाया डीह निवासी दयारती और विरेन्द्र दोनों एंटीजन टेस्ट में संक्रमित पाये गये थे। जांच के बाद उन्हें होम क्वारंटाइन किया गया था। प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. मानवेंद्र पाल सीएचसी जोगिया ने बताया कि सभी बच्चों को योजना का लाभ दिया जाएगा।