सिद्धार्थनगर : विधानसभा चुनाव को संपन्न कराने में प्रशासन व पुलिस जुटी है। सभी बूथों की स्थलीय निरीक्षण कर लिया लिया गया है। वहां मिलने वाली कमियों के संबंध में प्रशासन को अवगत भी करा दिया है। सीमावर्ती क्षेत्र में मोबाइल नेटवर्क की समस्या सामने आई है। 70 गांव ऐसे हैं, जहां से नेपाल सीमा महज कुछ कदमों की दूरी पर है लेकिन वहां भारतीय मोबाइल कंपनी का नेटवर्क नहीं काम करता है। प्रशासन ने यहां के बूथों पर वायरलेस सेट उपलब्ध कराने की कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए बकायदा फ्रीक्वेंसी भी सेट की जाएगी। पुलिस विभाग से वायरलेस संचालित करने के लिए जवान भी लगेंगे। इन बूथों पर विशेष निगाह रखी जाएगी।

शोहरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 49 व कपिलवस्तु में 21 ऐसे बूथ हैं, जहां किसी भी मोबाइल कंपनी का नेटवर्क काम नहीं करता है। प्रशासन ने इन्हें शैडो एरिया के बूथ के रूप में चिह्नित किया है। इस संबंध में निर्वाचन आयोग में भी यह सूची भेज दी है। वहां से मिले दिशानिर्देश में कहा गया है कि इन बूथों पर पुलिस विभाग वायरलेस सेट उपलब्ध कराए। इसी के सहारे चुनाव को संपन्न कराया जाएगा।

इन बूथों पर लगेगी अतिरिक्त फोर्स

शेडो एरिया में चिह्नित सभी बूथ सीमावर्ती क्षेत्र में हैं। इन गांवों का उत्तरी छोर नेपाल सीमा से लगा है। मोबाइल नेटवर्क नहीं होने व सीमा के निकट स्थित होने के कारण यहां सुरक्षा का अतिरिक्त इंतजाम किया जाएगा। इसे देखते हुए इन गांवों में अतिरिक्त फोर्स लगाने पर विचार किया जा रहा है।

पुलिस अधीक्षक डा. यशवीर सिंह ने कहा कि शेडो एरिया के बूथों पर मतदान संपन्न कराने के संबंध में पुलिस ने रणनीति तैयार की है। यहां पर वायरलेस सेट के साथ अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया जाएगा। इन बूथों पर लगे पुलिस अधिकारी व कर्मचारी से कंट्रोल रूम का निरंतर संपर्क बना रहेगा। राजपत्रित अधिकारियों को निर्देशित किया जाएगा कि वह इन बूथों का निरीक्षण करते रहेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी व डीएम दीपक मीणा ने बताया कि सीमावर्ती कई गांवों में मोबाइल नेटवर्क नहीं होने की समस्या सामने आई है। इस संबंध में आयोग को अवगत करा दिया गया है। आयोग ने कहा है कि स्थानीय स्तर पर बेहतर विकल्प को तलाशते हुए सकुशल व निष्पक्ष चुनाव को संपन्न कराएं। इन गांवों में तैनात कर्मचारियों को वायरलेस सेट उपलब्ध कराया जाएगा, इसके माध्यम से उनसे संपर्क साधा जा सके।

Edited By: Jagran