सिद्धार्थनगर : विकास खंड कार्यालय स्थित सभागार में उत्तर प्रदेश डबल फोर्टिफाइड नमक परियोजना द्वारा एनीमिया बीमारी की रोकथाम हेतु शुद्ध नमक का प्रयोग करने को लेकर उचित दर विक्रेताओं की दो दिवसीय कार्यशाला मंगलवार को संपन्न हुआ। आपूर्ति निरीक्षक डुमरियागंज की अगुवाई में दो दिन तक चले प्रशिक्षण में कोटेदारों को नमक के गुणों को बताते हुए उन्हें जागरूक किया गया। स्वास्थ्य के लिए उक्त नमक के प्रयोग को भी महत्वपूर्ण बताया गया। सारथी डेवलपमेंट फाउंडेशन के तत्वाधान में आयोजित कार्यशाला के अंतिम दिन ट्रेनर अनामिका टंडन ने कहा कि इस नमक में आयरन व आयोडीन दोनों प्रचूर मात्रा में मौजूद है। बाजार में बिक रहे नमक की तुलना में ये बेहतर है। इससे शरीर में खून की कमी व घेंघा रोग होने की संभावना नहीं रहती है। सरकार ने नागरिकों के स्वास्थ्य के मद्देनजर सस्ते दर पर नमक उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है, जिससे बीमारियों से बचा जा सके। आपूर्ति निरीक्षक नरेन्द्र मणि त्रिपाठी ने कहा कि भ्रम के चलते लोग कोटे का नमक नहीं ले रहे हैं। आप सभी उचित दर विक्रेताओं की जिम्मेदारी है, कि कार्यशाला में जो भी जानकारी मिली है, उसको कार्ड धारकों तक पहुंचाएं, जिससे भ्रम की स्थिति दूर हो सके और नागिरकों को शुद्ध नमक उपलब्ध हो सके। यशोदानंद चौबे ने सरकार के इस प्रयास की भूरि भूरि प्रशंसा की। ट्रेनर शाह फैसल समेत हजारी लाल, एसपी श्रीवास्तव, नितिन त्रिपाठी, लईफ, मो. ताहिर, रामचंद्र, शरद कुमार पाठक, उमाशंकर, मैनुद्दीन, राम हरक, बैजनाथ, ¨चगुद प्रसाद आदि उचित विक्रेता उपस्थित रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस