श्रावस्ती : भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन पर्व सोमवार को पूरे जिले में उत्साह के साथ मनाया जाएगा। पर्व को लेकर रविवार से ही जोर-शोर से तैयारियां शुरू हो गईं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद बाजार में राखी व मिठाई की दुकानें तो खुलीं, लेकिन भीड़ देखने को नहीं मिली। इससे व्यापारियों का उत्साह फीका रहा।

दो दिवसीय साप्ताहिक लॉकडाउन के नियम के तहत रविवार को दुकानें बंद रहनी थीं। देर शाम सीएम की ओर से राखी व मिठाइयों की दुकानें खोलने का आदेश दिया तो व्यापारियों तक इसकी सूचना आसानी से पहुंच गई, लेकिन गांव-गांव आम लोगों तक यह जानकारी समय से नहीं पहुंच पाई। कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत शारीरिक दूरी का पालन करते हुए दुकानदारों ने राखी व मिठाइयों दुकानें खुलीं, लेकिन सीमित ग्राहक ही बाजार में खरीदारी करते दिखे।

भिनगा व इकौना नगर के अलावा चौक-चौराहों पर भी रंग-बिरंगी राखियों की दुकानें सजाई गई थीं। ग्राहकों की भीड़ न उमड़ने से व्यापारी औने-पौने कीमत पर राखी व मिठाइयों की बिक्री कर लागत निकालने की कोशिश में जुटे रहे। बाजार में 20 रुपये से लेकर 400 रुपये तक राखियां उपलब्ध रहीं। राखी कारोबारी अनिल गुप्ता का कहना है कि इस बार की बिक्री पर कोरोना ने पानी फेर दिया। अनुपम भोग स्वीट के मालिक प्रशांत कुमार यज्ञसैनी ने बताया कि 300 रुपये से लेकर 900 रुपये तक कि मिठाई उपलब्ध है। लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली खजूर का लड्डू समेत अन्य मिठाई बनवाई गई थी। ग्राहकों के न आने से अधिकांश मिठाई बची रखी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस