संवादसूत्र, श्रावस्ती : महिला हिसा अथवा महिलाओं पर हो रहे अपराध की दशा में तत्काल सहायता के लिए मौके पर पहुंचने के लिए 181 महिला सुरक्षा हेल्पलाइन का वाहन है। श्रावस्ती जिले में ईंधन न होने से यह वाहन छह माह से एक कदम भी नहीं चला है। गुरुवार को राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष अंजू चौधरी के निरीक्षण में इसकी पोल खुली। उन्होंने स्थिति पर नाराजगी जताई। भिनगा स्थित लोक निर्माण विभाग के अतिथि गृह में राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने महिलाओं व युवतियों की शिकायतें सुनी। इस दौरान हरिहरपुररानी ब्लॉक क्षेत्र के खैरीकला ललईपुरवा की माया देवी पत्नी प्रधान ने बताया कि गांव के ज्ञानू पुत्र शिवदीन उनके साथ अभद्र व्यवहार करते हैं। इसकी शिकायत कोतवाली में की, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। उपाध्यक्ष ने स्थिति पर नाराजगी जताई और तत्काल कार्रवाई के लिए निर्देशित किया। जनसुनवाई में आईं महिलाओं व युवतियों को उन्होंने तत्काल सहायता के लिए निश्शुल्क हेल्पलाइन नंबर 1090 व 181 के बारे में बताया। इसके बाद उपाध्यक्ष ने संयुक्त जिला चिकित्सालय भिनगा का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने एसएनसीयू, प्रसव कक्ष व महिला हेल्पलाइन कक्ष का निरीक्षण किया। परिसर में मरीजों ने पीने के पानी के लिए लगा आरओ खराब था। प्रसव कक्ष में साफ-सफाई संतोषजनक नहीं मिली। बिजली गुल होने पर जनरेटर के संचालन की ऑटोमेटिक व्यवस्था न होने पर उन्होंने नाराजगी जताई। सीएमएस डॉ. विजय कुमार को व्यवस्था सुधारने के निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने वार्ड में भर्ती मरीजों का कुशल क्षेम भी जाना। महिला हेल्पलाइन 181 में लगे वाहन ईंधन के अभाव में पांच अगस्त से बंद मिलने पर उन्होंने तत्काल कार्यवाही के लिए निर्देशित किया। इसके बाद उपाध्यक्ष ने भिनगा के दहाना स्थित वृद्धाश्रम का भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखी। इस मौके पर जिला प्रोबेशन अधिकारी आरपी चौधरी, सीएमएस वियज कुमार, सीओ डॉ. जेबी यादव, तहसीलदार भिनगा राजकुमार पांडेय, जनसंपर्क अधिकारी मनोज मिश्र, महिला थानाध्यक्ष केके यादव आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस