शामली, जागरण टीम। मानसिक रोगियों को भी जल्द जिला संयुक्त अस्पताल में उपचार मिल सकेगा। मनोचिकित्सक की नियुक्ति के लिए जल्द प्रक्रिया शुरू होगी। नियुक्ति के लिए मनोचिकित्सक आएं, इसके लिए वेतन का पैकेज भी अच्छा-खासा रहेगा। हालांकि नियुक्ति संविदा पर रहेगी।

जिला संयुक्त अस्पताल 16 अगस्त से शुरू हो गया था। हालांकि अभी सुविधा नहीं है। डायलिसिस यूनिट का औपचारिक उद्घाटन तो हो गया है, लेकिन डायलिसिस शुरू नहीं हुई है। जिले के किसी सरकारी अस्पताल में अभी तक मनोचिकित्सक नहीं है। ऐसे में मानसिक रोगियों को हायर सेंटर ही रेफर किया जाता है। पिछले दिनों मानसिक स्वास्थ्य शिविर लगाया गया था, जिसमें मनोचिकित्सक रुड़की से बुलाए गए थे। जिला संयुक्त अस्पताल में मन कक्ष बनाया गया है, जिसमें मनोचिकित्सक और काउंसलर की नियुक्ति होती है। मरीजों की स्थिति के आधार पर दवा दी जाती है और काउंसलिग होती है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अथर जमील ने बताया कि मनोचिकित्सक की नियुक्ति के लिए जल्द ही प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। शासन से पद स्वीकृत हो गया है। काउंसलर की भी नियुक्ति होनी है, जिसके लिए शासन को लिखा गया है। जिला संयुक्त अस्पताल में मन कक्ष पहले से है। मनोचिकित्सक की नियुक्ति के बाद इसे शुरू कर दिया जाएगा और मानसिक रोगियों का उपचार शुरू हो जाएगा। काउंसलर की नियुक्ति होने तक मनोचिकित्सक ही काउंसलिग का काम देख लेंगे। वहीं, जिला अस्पताल के सीएमएस डा. सफल कुमार ने बताया कि जिला अस्पताल में स्वीकृत पदों के सापेक्ष चिकित्सकों एवं स्टाफ की नियुक्ति के लिए शासन को लगातार पत्राचार किया जा रहा है।

Edited By: Jagran