शामली, आकाश शर्मा। पुस्तक प्रेमियों के लिए यह अच्छी खबर है। जिले में किताबों के शौकीन लोगों के लिए अब पुस्तकालय खोला जाएगा। प्रदेश शासन ने इसके लिए मंजूरी दे दी है। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय को विभिन्न बिंदुओं पर निर्देशित करते हुए भूमि की तलाश के लिए प्रशासन को भी पत्र लिखा गया है।

शामली को जिला बने इस माह दस साल पूरे हो जाएंगे, लेकिन अभी तक शामली में कोई सरकारी पुस्तकालय नहीं है। इसके चलते किताब पढ़ने के शौकीनों को निजी पुस्तकालय या फिर अन्य जिले में पढ़ने के लिए जाना पड़ता था। वहीं प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं को भी पढ़ाई के लिए अच्छा माहौल नहीं मिल रहा था। जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआइओएस) सरदार सिंह ने लोगों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए शासन को जिले में पुस्तकालय बनाने को लेकर पत्र लिखा था। डीआइओएस ने बताया कि नियमानुसार जमीन की तलाश शुरू कर दी गई है। शहर में बीचों बीच किसी जमीन की तलाश है। यदि नहीं मिली तो शहर के आसपास जमीन की तलाश की जाएगी। जमीन मिलते ही पुस्तकालय निर्माण का कार्य शुरू कर दिया जाएगा और जल्द तैयार कर पुस्तकालय का शुभारंभ किया जाएगा।

ये मिलेंगी सुविधा

पुस्तकालय में हर प्रकार की किताबें रखी जाएंगी, जिसमें प्रतियोगी परीक्षा, फिक्शन, इतिहास, गणित व विज्ञान की किताबें मुख्य रूप से होंगी। उन्होंने बताया कि पुस्तकालय के खुलने से होनहार व मेहनती विद्यार्थियों को भारतीय प्रशासनिक सेवा (आइएएस), प्रांतीय सिविल सेवा (पीसीएस) व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। यहां पर विद्यार्थी बिना फीस दिए पढ़ाई कर सकेंगे।

देखभाल के लिए स्टाफ, इंटरनेट की सुविधा

पुस्तकालय की देखभाल के लिए स्टाफ भी तैनात किया जाएगा। इसके अलावा युवाओं को इंटरनेट की सुविधा भी दी जा सकती है।

इनका कहना है..

शासन से पुस्तकालय के लिए मंजूरी मिल गई है। हमारी ओर से जमीन की तलाश की जा रही है। जमीन मिलते ही पुस्तकालय का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा। पुस्तक प्रेमियों के लिए पढ़ाई संबंधित ज्यादा से ज्यादा किताबें मंगाने का प्रयास किया जाएगा।

-सरदार सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक, शामली।

Edited By: Jagran