शामली, जागरण टीम। प्रदेश के गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि पिछली सरकारों में उद्योगों और रोजगार का पलायन होता था, लेकिन अब योगी सरकार में उत्तर प्रदेश को विश्वविद्यालय एवं एक्सपोर्ट के नाम से जाना जाता है। वर्तमान में 100 करोड़ से ज्यादा एक्सपोर्ट जनपद शामली से है। यह खुद में बड़ी उपलब्धि है।

शनिवार को दिल्ली रोड स्थित सिटी ग्रीन बैंक्वेट हाल सभागार में आजादी की 75 वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में जनपद में आजादी का अमृत महोत्सव पर वाणिज्य, एक्सपोर्टर्स कानक्लेव का आयोजन किया गया। इसका शुभारंभ मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने दीप प्रज्जवलित कर किया। एक्सपोर्टर्स कानक्लेव में जनपद के प्रमुख उद्यमियों ने स्टाल लगाकर अपने प्रमुख उत्पादों को प्रदर्शित किया। गन्ना मंत्री ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश जो पहले क्राइम को लेकर चर्चा में रहता था। उद्योगों का पलायन था, रोजगार का पलायन था, लेकिन वर्तमान सरकार में उसी पश्चिम उत्तर प्रदेश को विश्वविद्यालय एवं एक्सपोर्ट के नाम से जाना जाता है।

प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। सड़क, बिजली पानी की व्यवस्था दुरुस्त हुई है। जनपद शामली में लगातार विकास के कार्य हो रहे हैं। इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुज गर्ग और साइमा के अध्यक्ष अंकित गोयल ने कहा सरकार ने पूरे प्रदेश में उद्योग और निवेश का माहौल बनाया है, उद्यमियों व व्यापारियों को सुरक्षा प्रदान की है। कोरोना काल के दौरान भी प्रदेश में 45,000 करोड़ का निवेश होना अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है। आइआइए के संरक्षण अशोक बंसल, अशोक मित्तल ने भी विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर उपायुक्त उद्योग परमहंस मौर्य, सहायक आयुक्त उद्योग बनवारी लाल, अपर सांख्यिकी अधिकारी राजेंद्र कुमार, उद्योग जगत से आइआइए अध्यक्ष अनुज गर्ग, साइमा महासचिव अमित जैन, अपूर्व जैन, आयुष बंसल, रोहित गर्ग, टिकोला शुगर मिल के निदेशक निरंकार स्वरूप समेत उद्यमी अनेक उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran