जागरण संवाददाता, शामली। किसान यूनियन की गांव कुड़ाना में बैठक हुई और गन्ना भुगतान के साथ अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई। तय हुआ कि अगर दस जनवरी तक भुगतान को लेकर कोई ठोस जवाब नहीं दिया जाता है तो आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी।

किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सवित मलिक ने कहा कि 28 दिसंबर को कलक्ट्रेट में मुख्यमंत्री के नाम अपर जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया था। अपर जिलाधिकारी, जिला गन्ना अधिकारी और तीनों चीनी मिल के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता हुई थी। तय हुआ था कि एसडीएम शामली की अध्यक्षता में कमेटी बनेगी, जो तीनों चीनी मिल का निरीक्षण कर चीनी व सह उत्पादों का स्टाक और बिक्री को लेकर रिपोर्ट तैयार करेगी। दस जनवरी को यूनियन पदाधिकारियों और चीनी मिल प्रतिनिधियों के साथ बैठक भी प्रस्तावित की गई थी, लेकिन अभी तक यह जानकारी भी नहीं मिली है कि कमेटी का गठन हुआ है या नहीं है। अगर हुआ है तो कौन सदस्य हैं। निरीक्षण तो किसी मिल का अभी तक हुआ नहीं है। अभी भी पिछले पैराई सत्र का 180 करोड़ रुपये से अधिक बकाया है। पूर्व में कलक्ट्रेट में किसानों ने धरना दिया था और तब दिसंबर तक पूरा भुगतान की बात कही गई थी। इस सत्र का तो एक रुपया भी किसानों को नहीं मिला है। अगर दस जनवरी तक भुगतान को लेकर ठोस जवाब नहीं मिलता है तो आंदोलन की रणनीति तैयार करेंगे। सरकार को किसानों की कोई चिता नहीं है। वहीं, बेसहारा गोवंशी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। पूरे जिले में यह समस्या है और अनेकों बार प्रशासन को अवगत भी कराया चुका है। बैठक में जिलाध्यक्ष अमित निर्वाल, संजीव लिलौन, यामीन चौधरी, ऋषिपाल बालियान, राजेंद्र सिंह, जयपाल सिंह आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran