शामली, जेएनएन। भारतीय गन्ना किसान संघ ने सरकार से गन्ने के बकाये का ब्याज समेत भुगतान कराने की मांग की है। ऐसा नहीं होने पर जल्द ही आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

मेरठ रोड स्थित कार्यालय में मंगलवार को हुई बैठक में भारतीय गन्ना किसान संघ के अध्यक्ष अनिल मलिक ने कहा कि सरकार को किसानों की कोई चिता नहीं है। सिर्फ गुमराह करने का काम किया जाता है। पेराई सत्र समाप्त होने के बाद भी बड़ी धनराशि गन्ना किसानों की बकाया है। भुगतान को लेकर सरकार की कोई योजना नहीं है। शासन-प्रशासन की ओर से चीनी मिलों से भुगतान में तेजी लाने के लिए कहा जाता है, पर होता कुछ नहीं। सरकार किसानों को ब्याज समेत भुगतान दिलाए। साथ ही कहा कि पिछले चार साल से गन्ने का भाव नहीं बढ़ा है, जबकि उत्पादन लागत बेहद बढ़ चुकी है। इस बार गन्ने का भाव 450 रुपये प्रतिकुंतल तो कम से कम होना चाहिए। सरकार किसानों की आय बढ़ाने की बात तो करती है, लेकिन इस दिशा में काम नहीं किया जाता। आज सरकार के खिलाफ किसानों में गुस्सा है। यमुना नदी का जलस्तर बढ़ा

कैराना : पहाड़ी क्षेत्रों में वर्षा के चलते यमुना नदी के जलस्तर में मामूली वृद्धि दर्ज की गई है।

पहाड़ी क्षेत्रों में वर्षा हुई है। इसी के चलते कैराना स्थित यमुना नदी के जलस्तर में मामूली वृद्धि दर्ज की गई है। ड्रेनेज विभाग के एई ओमकार सिंह ने बताया कि मंगलवार को यमुना नदी 227.700 मीटर पर बह रही है। अभी सामान्य स्थिति है। चेतावनी लेवल 231 मीटर पर है। जबकि खतरा का बिदु 231.500 मीटर पर है। दूसरी ओर, यदि यमुना नदी के जलस्तर में एक मीटर तक की वृद्धि हुई तो यमुना पर फोरलेन हाइवे के लिए चल रहा ब्रिज का निर्माण कार्य की गति धीमी पड़ सकती है।

Edited By: Jagran