शामली, जेएनएन। शुक्रवार शाम को पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट में मृतक पांचों लोगों के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इससे पहले पोस्टमार्टम के बाद घर पहुंचने पर तीनों महिलाओं के शव हरिजन चौपाल पर रखकर हंगामा किया गया । एसडीएम व कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंची। एसडीएम ने मृतकों के परिजनों को दुर्घटना बीमा के तहत पांच पांच लाख का मुआवजा दिलाने व मुख्यमंत्री राहत कोष से भी सहायता दिलाने का आश्वासन दिया।

यह था मामला

कस्बे के शामली रोड पर विनोद सैनी का पानी का प्लांट है। मोहल्ला रायजादगान निवासी फरमान व इरफान पुत्र इंतजार इस प्लाट में पटाखा फैक्ट्री संचालित कर रहे थे। शुक्रवार को फैक्ट्री में मोहल्ले की 35 वर्षीय निर्मला पत्नी श्यामलाल, 40 वर्षीय नरेशो पत्नी रामफल, 45 वर्षीय सरस्वती पत्नी वीरेंद्र, 46 वर्षीय फैक्ट्री मालिक इंतजार व 22 वर्षीय शैंकी पुत्र राजेंद्र निवासी इस्लामपुर घसौली पटाखे बना रहे थे। शाम 4.20 बजे फैक्ट्री में अचानक तेज धमाके के साथ विस्फोट हुआ। घटनास्थल से दस किमी दूर तक धमाके की आवाज व कंपन महसूस किया गया। मौके पर धुआं ही धुआं हो गया। फैक्ट्री में रखा एक गैस सिलेंडर भी आग लगने से फट गया। विस्फोट से फैक्ट्री की छत उड़ गई। टीन आसपास के खेतों व पेड़ों पर लटकी मिली। धमाके की लगातार आवाज से हजारों की तादाद में ग्रामीण फैक्ट्री के पास जाने का साहस नहीं जुटा पाए। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह, एसपी विनीत जयसवाल और रेडक्रास टीम मौके पर पहुंच गई। गौरतलब है कि कांधला में ही वर्ष-2006 में पटाखा फैक्ट्री में हुए विस्फोट से सात बच्चों की मौत हो गई थी।

परिजनों ने किया हंगामा

कांधला में बम विस्फोट के बाद मौके पर मिले 3 महिलाओं व दो लोगों के शव पुलिस ने अधिकारियों की मौजूदगी में पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिए थे। जिलाधिकारी के आदेश पर रात में ही सभी शवों का पोस्टमार्टम हुआ। शनिवार सुबह परिजन शव अपने घर ले गए थे। मृतक तीनों महिलाओं नरेशो, सरस्वती व निर्मला के शव परिजनों ने हरिजन चौपाल पर रखकर शनिवार सुबह हंगामा काटा। परिजनों की मांग मुआवजा दिलाने की थी।

मौके पर पहुंची पुलिस

यह जानकारी पाकर कैराना एसडीएम मनी अरोड़ा व कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंची। एसडीएम ने परिजनों को समझा बुझा कर शांत किया। उन्हें दुर्घटना बीमा के तहत पांच-पांच लाख का मुआवजा दिलाने के साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष से भी सहायता दिलाने का आश्वासन दिया। इसके बाद परिजन शांत हो गए। इस दौरान वरिष्ठ भाजपा नेता एमएलसी वीरेंद्र सिंह, शामली विधायक तेजेंद्र निरवाल व अन्य नेता भी मौके पर पहुंच गए थे। मुआवजा का आश्वासन मिलने के बाद परिजनों ने शवों का अंतिम संस्कार कर दिया।

उधर मृतक फैक्ट्री मालिक इंतजार एवं नौकर इस्लामपुर घसौली निवासी शैंकी के शव का भी अंतिम संस्कार कर दिया गया है। सुरक्षा के मद्देनजर कई थानों की पुलिस के साथ अधिकारी भी मौजूद रहे। इस मामले में मृतक शैंकी के पिता राजेंद्र ने फैक्ट्री संचालक फरमान व इरफान पुत्र इंतजार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। 

यह भी पढ़ेें : शामली में पटाखा फैक्ट्री में व‍िस्‍फोट, तीन महिलाओं समेत पांच की मौत

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस