जागरण संवाददाता, शामली : जिलाधिकारी इंद्र विक्रम ¨सह ने कहा कि राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह गठन कर महिलाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएं। महिलाएं स्वयं सहायता समूह के माध्यम से फूलों की खेती, सिलाई, कढ़ाई, मुर्गी पालन, ब्यूटी पार्लर के समान आदि का उत्पात कर बाजार में समान की बिक्री कर आत्मनिर्भर बन सकती है।

बुधवार को कलक्ट्रेट में राष्ट्रीय आजीविका मिशन की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए डीएम इंद्र विक्रम ¨सह ने कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकारी की ओर से योजनाएं चलाई जा रही है। योजनाओं का प्रशिक्षण देकर महिलाओं के स्वयं सहायता समूह का गठन करें ताकि महिलाओं समूहों द्वारा फूलों की खेती, सिलाई, कढ़ाई, मुर्गी पालन, ब्यूटी पार्लर के समान आदि का उत्पात कर बाजार में समान की बिक्री कर आत्मनिर्भर बनें। महिलाओं द्वारा उत्पादन किए समान की बाजार में बिक्री करने के लिए व्यापार कर विभाग में जीएसटी का पंजीयन कराएं ताकि अपने उत्पात का बाजार में बिक्री की जा सके। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी विवेक त्रिपाठी, परियोजना निदेशक ज्ञानेश्वर तिवारी, राष्ट्रीय आजीविका मिशन के उपायुक्त शैलेंद्र व्यास, लीड बैंक मेनेजर शैलेश कुमार, कृषि उप निदेशक शिव कुमार केसरी, एनआरएलएम जिला प्रबंधक दलगंजन ¨सह मौजूद रहे।

Posted By: Jagran