जागरण संवाददाता, शामली : जिलाधिकारी इंद्रविक्रम ¨सह ने नवनिर्मित मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय व विकास भवन का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने निर्माण कार्य का जायजा लिया। यहां छत में ¨लटर पर डाला गया सरिया दिखाई दे रहा था। इस पर डीएम ने अधिशासी अभियंता को कड़ी फटकार लगाते हुए मरम्मत के निर्देश दिए। उन्होंने कहा निर्माण कार्यों में मानक गुणवत्तायुक्त कार्य होना चाहिए। कार्य समय सीमा के भीतर पूरा हो। चेतावनी दी कि निर्माण कार्यों में मानक के अनुरूप कार्य न करने वाले के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।

बुधवार को डीएम इंद्र विक्रम ¨सह ने विकास भवन व सीएमओ आफिस का निरीक्षण किया। डीएम ने यहां निर्देशित किया कि किसी प्रकार की कमी दिखाई नहीं देनी चाहिए। इसी दौरान एक कमरे की पुताई सही न मिलने पर इसकी दोबारा पुताई के निर्देश दिए। उन्होंने हर कमरे का निरक्षण के दौरान साफ-सफाई व टाइलों की फिनि¨शग सही न मिलने पर भी नाराजगी व्यक्त की। अधिशासी अभियंता को निर्देश दिये की एक सप्ताह के अंदर सभी कार्य पूर्ण करके मुख्य चिकित्सा कार्यालय को हैंडओवर करें, ताकि जल्द से जल्द इसमें कार्य शुरू हो सके। इसके साथ ही विकास भवन का निरीक्षण भी किया। यहां विकास भवन फिनि¨शग एक प्रकार से सही नहीं पाई गई। जीने पर रे¨लग अभी तक नहीं लगाई गई। उन्होंने सहायक अभियंता वीके गुप्ता जमकर लताड़ लगाई। दीवारों पर सही प्लास्टर न होने के कारण दीवारों पर सील मिली। इस पर डीएम ने तत्काल सुधार लाने के निर्देश दिए। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी विवेक त्रिपाठी, प्रभारी सीएमओ डॉ. अनिल कुमार, एसीएमओ डॉ. सफल कुमार, डॉ. नेतराम, परियोजना निदेशक ज्ञानेश्वर प्रसाद तिवारी, जिला विकास अधिकारी बलराम कुमार, डीआरडीए दिनेश ¨सघल मौजूद रहे।

Posted By: Jagran