शामली, जेएनएन। मिठाइयों में मिलावट का डर कहें या कुछ और, लेकिन अब शामली में भी दीपावली पर भेंट यानी उपहार देने का ट्रेंड बदल रहा है। आमतौर पर लोग यहां लोग मिठाई का डिब्बा ही सबसे ज्यादा देते हैं। यदि ये नहीं तो ब्रांडेड कंपनी के मिठाई, नमकीन-बिस्किट के गिफ्ट पैक, लेकिन अब खुद के साथ दूसरों की सेहत का भी ख्याल रखा जा रहा है। तभी तो ऐसे गिफ्ट पैक बनवाए जा रहे हैं, जिसमें ग्रीन टी है, जूस के ट्रेटा पैक और शुगर फ्री बिस्किट आदि को शामिल कराया जा रहा है।

दीपावली में अब कुछ दिन ही शेष बचे हैं। बाजारों में रौनक बढ़ गई और घरों में तैयारियां चल रही हैं। बाजारों के साथ मोहल्लों में भी गिफ्ट पैक की अस्थाई दुकानें सज चुकी हैं और जमकर खरीददारी हो रही है। सेहत का ध्यान रखते हुए कॉरपोरेट सेक्टर में तो उपहार देने का ट्रेंड कई साल पहले ही बदल चुका था। इसके बाद ये चलन काफी सालों से है। इसके बाद बड़े शहरों में आम लोगों ने भी इसे अपनाया, लेकिन, व्यापारियों की मानें तो शामली पहली बार ऐसा ट्रेंड देखने को मिल रहा है। इसलिए तो व्यापारियों ने इस तरह के गिफ्ट पैक नहीं बनाए थे। सेहत के लिए मुफीद गिफ्ट पैक में ड्राई फ्रूट ही हैं। व्यापारी पंकज गुप्ता ने बताया कि मिठाइयों पर लोगों का विश्वास कम हुआ है। अब तो लोग कंपनियों की डिब्बा बंद मिठाई भी कम खरीद रहे हैं। हालांकि, सही पता तो आने वाले दिनों में पता चलेगा, लेकिन, काफी लोग ऐसे आ रहे हैं, जो अपने हिसाब से गिफ्ट पैक बनवा रहे हैं। व्यापारी धर्मवीर ने बताया कि फ्लेवर वाली ग्रीन टी की मांग भी काफी है। शहर में काफी लोग अब दूध वाली चाय को छोड़कर ग्रीन टी का सेवन करते हैं। वहीं, कुछ लोग तो गिफ्ट पैक में ओट्स के पैकेट में शामिल करा रहे हैं। हालांकि, अभी ऐसे ग्राहकों की संख्या कम ही है।

------------

घर में काम आने वाले उत्पादों की बिक्री

गिफ्ट दुकान संचालक तिलकराम ने बताया कि फोटो फ्रेम, क्रॉकरी की सबसे अधिक खरीददारी हो रही है। लोग को सजावटी समान देने के बजाय ऐसे उत्पाद देना अधिक पसंद कर रहे हैं, जो घर में काम आ सकें। क्रॉकरी में डिनर सेट, नाइफ सेट, मिक्सर, कप-गिलास सेट आदि की अधिक बिक्री है। व्यापारी पुरुषोत्तम ने बताया कि बैडसीट, इंडक्शन, बैग, टेबल कवर आदि की भी बिक्री हो रही है।

--

घरों की सजावट के लिए खरीददारी

दीपावली पर घरों और प्रतिष्ठानों को सजाने के लिए झालर समेत कई तरह के इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों की बंपर बिक्री हो रही है। शहर में काफी घर सज भी चुके हैं और रंग-बिरंगी लाइटों से जगमग हैं।

--

ग्रामीण अंचल में मिष्ठान पर ही विश्वास

भले ही गिफ्ट की खरीदारी का दौर खूब चल रहा हो, लेकिन ग्रामीण अंचल में आज भी मिठाई का दौर चल रहा है। ग्रामीण आज भी मिठाई के लेन देन को ही दीपावली का सबसे बेहतर विकल्प मानते है। ग्रामीण राजकुमार कहते है कि दीपावली का त्योहार ही मिठाई का होता है, फिर ऐसे में इसका विकल्प और कुछ कैसे हो। खुशी में मिठाई ही खिलाई व खाई जाती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप