शामली : ऐच्छिक ब्यूरो में विवाहिता उत्पीड़न के अलावा ससुराल पक्ष के उत्पीड़न के भी मामले आने लगे है। रविवार को आयोजित ब्यूरो की बैठक में एक युवक ने पत्नी पर पिता द्वारा लगाए आरोप को झूठा करार दिया। बाद में दोनों पक्षों में समझौता हो गया। ब्यूरो की बैठक में दो परिवार टूटने से बच गए।

रविवार को नगर पालिका परिसर के सभागार में एच्छिक ब्यूरो की बैठक हुई। इसमें दो परिवारों ने अपने मनमुटाव दूर कर लिए। दोनों परिवारों ने एक साथ रहने का निर्णय लिया है। ब्यूरो की बैठक में एक ऐसे मामले में समझौता हुआ है जिसमें पिछले माह क्षेत्र के आदर्श मंडी निवासी संजय ने प्रार्थना पत्र देकर कहा था कि उसके बेटे विजय की शादी तितावी निवासी अंजू से हुई थी। उनकी पुत्रवधू शादी के कुछ दिन बाद ही उन्हें परेशान करने लगी थी। उनके साथ आए दिन अभद्र व्यवहार करती थी। उन्हें झूठे मामले में जेल भिजवाने की धमकी देती थी। परेशान होकर संजय ने पुत्रवधू के उत्पीड़न से बचाने की गुहार लगाई थी। रविवार को बैठक में दोनों पक्षों को बुलाया गया। तब युवक ने पत्नी पर लगाए पिता के सभी आरोपों को झूठा करार दिया। दोनों पक्षों ने पक्ष रखे, लेकिन बाद में ब्यूरो सदस्यों ने उनका मनमुटाव दूर कराकर समझौता करा दिया। इसके अलावा नगर मोहल्ला मनिहारान निवासी सोनिया का उसके पति बिजेंद्र निवासी बागपत के साथ चला आ रहा पारिवारिक विवाद भी समाप्त हो गया। समझौता करने के बाद दोनों पक्ष एक साथ घर चले गए। बैठक में 22 मामलों में सुनवाई हुई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस