शामली, जागरण टीम। शहर की सड़क के किनारों पर व्यापारियों ने अवैध रूप से कब्जा कर लिया है। शहर के मुख्य बाजारों में अतिक्रमण की समस्या लगातार गहराती जा रही है। फुटपाथों पर कब्जा करने के बाद सड़कों के किनारे भी भारी तादाद में अवैध कब्जे हो गए हैं। जिससे पैदल राहगीरों का निकलना मुश्किल हो जाता है। यह समस्या बढ़ती जा रही है, लेकिन इसके निराकरण के लिए प्रशासन की ओर से कोई ठोस पहल नहीं हो रही है। दो साल पूर्व अभियान तो चलाया गया, लेकिन इसका कोई असर नहीं है। ईओ कहते हैं कि अतिक्रमण करने वालों को चेतावनी दी गई है। जल्द ही अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।

शहर में ऐसा कोई स्थान नहीं जहां पर फुटपाथ सुरक्षित हों। हर फुटपाथ पर अस्थायी दुकानदारों ने कब्जा कर लिया है। कपड़े, जूते, बर्तन और रेहड़ियां अवैध रूप से लगाई जाती है। जिसके चलते शहर की किसी भी सड़क पर लोगों को निकलने की जगह नहीं मिलती है। थोड़ी बहुत जो जगह बचती भी है तो रिक्शा, ठेले वाले उस पर कब्जा करके खड़े हो जाते हैं। शहर में कबाड़ी बाजार, बड़ा बाजार, आजाद चौक, वर्मा मार्केट, दिल्ली रोड, कैराना रोड, धीमानपुरा फाटक, गुरुद्वारा तिराहा आदि के पास अवैध रूप से फु़टपाथ पर कब्जा कर लिया गया है।

वहीं, शहर के अधिकतर बैंक, एटीएम, कोचिग सेंटर, शराब के ठेके, कपड़े के शोरूम, बर्तनों की दुकान, नाई की दुकान आदि के बाहर सड़कों पर वाहनों की भीड़ देखने को मिलती है।

------

अतिक्रमण के खिलाफ दो साल से नहीं चला अभियान

नगरपालिका शामली की ओर से करीब 2 साल पूर्व एक पखवाड़े का पूरा प्लान अतिक्रमण हटाने के लिए बनाया गया था। दो दिन अभियान चला अतिक्रमण भी हटाया गया। व्यापारियों ने विरोध भी किया। हलका हंगामा भी हुआ और फिर दो ही दिन में अभियान चलना बंद हो गया। कुल मिलाकर प्रभावी अभियान शायद ही कभी शामली में चलाया गया हो। इसलिए फुटपाथ एक तरफ से गायब हो गए हैं।

..

इन्होंने कहा.

जल्द ही अतिक्रमण हटाने का प्लान बनाया जाएगा और प्रभारी रूप से अभियान चलाएंगे। फिलहाल अतिक्रमण करने वालों को चेतावनी दी जा रही है। यदि फिर भी लोग अतिक्रमण करते हैं तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

-सुरेंद्र यादव, ईओ नगर पालिका शामली

----

Edited By: Jagran