शामली, जागरण टीम। कोरोनारोधी टीकाकरण की गति को बढ़ाने के लिए जिलाधिकारी जसजीत कौर की अध्यक्षता में अंतरविभागीय बैठक हुई। बैठक में मदरसों के मोहतमिम भी शामिल हुए। जिलाधिकारी ने कार्ययोजना को सुदृढ़ करने, लोगों को जागरूक करने और ग्राम प्रधान-कोटेदारों का सहयोग लेने के निर्देश दिए।

दरअसल, कुछ दिनों से लक्ष्य के सापेक्ष जिले में कम लोग टीकाकरण के लिए आ रहे हैं। इसे लेकर बुधवार शाम कलक्ट्रेट सभागार में बैठक हुई। जिलाधिकारी ने कहा कि मेगा कैंप में हरेक केंद्र पर सत्यापन का कार्य शिक्षक करेंगे। बेसिक शिक्षा अधिकारी को मेगा कैंप की कार्ययोजना समय से उपलब्ध करा दी जाए ताकि केंद्रों पर शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जा सके। जिला पंचायतीराज अधिकारी के माध्यम से राशन कोटेदार और ग्राम प्रधानों से सहयोग प्राप्त किया जाए। मुख्य विकास अधिकारी शंभूनाथ तिवारी ने कहा कि टीकाकरण बढ़ाने के लिए ब्लाक स्तर पर सीएचसी के चिकित्सा अधीक्षक, खंड विकास अधिकारी, अपर बेसिक शिक्षाधिकारी, सीडीपीओ समन्वय स्थापित कर कार्ययोजना बनाना सुनिश्चित करें। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. राजकुमार सागर ने बताया कि वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता है। कुछ अन्य स्टाफ को भी प्रशिक्षण दिया जाएगा, जिससे टीकाकरण की गति को और बढ़ाया जा सके। दूरदराज के केंद्रों पर पुलिसबल भी तैनात होना चाहिए, क्योंकि टीकाकरण में महिला स्वास्थ्यकर्मी की ड्यूटी रहती है। बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संजय अग्रवाल, विश्व स्वास्थ्य संगठन की सर्विलांस मेडिकल आफिसर डा. महिमा, एनएचएम के डीपीएम आशुतोष श्रीवास्तव, गढ़ीदौलत मदरसे के मोहतमिम मौलाना आकिल, तैमूरशाह मदरसे के मोहतमिम कुतबुद्दीन, जलालाबाद मदरसे के वली उल्लाह, कैराना मदरसे के मोहतमिम शमी उल्लाह आदि मौजूद रहे। बुखार के डर से नहीं लगवा रहे टीका

कैराना मदरसे के मोहतमिम शमी उल्लाह ने कहा कि वैक्सीन लगने के बाद बुखार होने की आशंका रहती है। इससे कुछ लोग घबरा रहे हैं और टीका नहीं लगवा रहे। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संजय अग्रवाल ने कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। अगर किसी को बुखार या अन्य कोई दिक्कत होती है तो उनका पूरा उपचार किया जाएगा।

Edited By: Jagran