शामली, जागरण टीम। भाजपा में अंदरखाने चल रहा विवाद बुधवार को बाहर आ गया। कैराना नगर मंडल के पदाधिकारियों ने जिलाध्यक्ष सतेंद्र तोमर पर गंभीर आरोप लगाते हुए सामूहिक इस्तीफा दे दिया। इससे पहले सभी पदाधिकारियों ने मंडल अध्यक्ष शक्ति सिघल के आवास पर बैठक की। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को अपने निर्णय से अवगत कराया है।

बुधवार को कैराना के मोहल्ला गुम्बद निवासी भारतीय जनता पार्टी के नगर मंडल के अध्यक्ष शक्ति सिघल एडवोकेट की मौजूदगी में उनके आवास पर नगर इकाई के पदाधिकारियों ने एक बैठक की। बैठक के बाद महासचिव अवधेश मित्तल व गोविद सिंह एडवोकेट सहित 31 पदाधिकारियों ने सामूहिक रूप से पार्टी पदों से त्यागपत्र प्रदेश अध्यक्ष को भेज दिया। उनका आरोप है कि जिलाध्यक्ष सतेंद्र तोमर मनमानी कर रहे हैं। आरोप है कि जिलाध्यक्ष अन्य पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी भाजपा में शामिल कर रहे हैं। यह काम पार्टी की विचारधारा के विपरीत है। आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को प्रमुख पदों पर नियुक्त किया गया और समर्पित कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है। उन्होंने खनन माफिया को भी पार्टी पदाधिकारी बनाने का आरोप लगाया। इसी कारण उन्होंने त्यागपत्र का फैसला लिया है। इस दौरान मोहनलाल आर्य, शगुन मित्तल, शिवकुमार रोड, उदय सिंह, रामावतार मित्तल व अजय आदि मौजूद रहे। इनका कहना है

पार्टी प्रकोष्ठ, जिला स्तर के मोर्चे एवं अन्य शासकीय पदों पर बिना संस्तुति किए सूची जारी की जा रही है। मंडल अध्यक्षों से प्रक्रिया के अनुरूप संस्तुति नहीं कराई जा रही है। क्षेत्रों में आयोजित कार्यक्रमों की सूचना प्रदान नहीं की जाती हैं। पार्टी हमारे आरोपों की जांच कराकर कार्रवाई करे।

शक्ति सिघल एडवोकेट, मंडल अध्यक्ष भाजपा

कैराना प्रकरण की जानकारी मिली है। कार्यकर्ताओं की किसी विषय को लेकर नाराजगी रही होगी। उनसे बात की जाएगी और उनकी शंकाओं का निवारण किया जाएगा। मंडल अध्यक्ष की अहम भूमिका रहेगी।

अजय शर्मा, प्रभारी शामली, भाजपा

दो दिन पहले मुंशाद ने भी लगाए थे गंभीर आरोप

अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ में सक्रिय और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सम्मानित दभेड़ी निवासी भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता मुंशाद ने भी दो दिन पहले गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ की कार्यकारिणी में अल्पसंख्यकों की उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मामले में कार्रवाई की थी। मुंशाद के आरोपों के बाद अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ की कार्यकारिणी निरस्त कर दी गई थी।

----------------------

भाजपा पदाधिकारी पर है लड़की से छलकपट का आरोप

चौसाना में भाजपा के बूथ प्रभारी बनाए गए कंवरपाल उर्फ घूसू पर गंभीर आरोप हैं। उनपर आरोप है कि उन्होंने एक लड़की को धोखे में रखकर उससे शादी कर ली थी। लड़की ने दिल्ली के जामिया थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में कंवरपाल काफी दिनों तक फरार था। दो माह पहले दिल्ली पुलिस कंवरपाल को पकड़कर साथ ले गई थी।

Edited By: Jagran