शामली, जेएनएन। जिले में कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। शनिवार को 306 संक्रमित मिले हैं। हालांकि 150 मरीज स्वस्थ हुए हैं और अब सक्रिय केस 753 हैं।

29 दिसंबर से कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो गई थी। इसके बाद से लगातार केस बढ़ रहे हैं। नए संक्रमितों में पुलिस अधीक्षक कार्यालय के 13 और कोतवाली शामली के छह पुलिसकर्मी हैं। जिला संयुक्त अस्पताल से पांच, एलआई कार्यालय से पांच और ऊर्जा निगम कार्यालय खेड़ीकरमू से सात संक्रमित मिले हैं। शहर के साथ ही कैराना, थानाभवन और काफी गांवों से भी पाजिटिव केस आए हैं। शहर से गांवों तक संक्रमण तेजी से पांव पसार रहा है। इसके बाद भी लोग लापरवाही करना नहीं छोड़ रहे हैं। न तो शारीरिक दूरी का कहीं पालन है और अधिकांश मास्क तक नहीं लगा रहे हैं। प्रशासन की अपील का भी असर नहीं दिख रहा है। जिलाधिकारी जसजीत कौर ने बताया कि सभी संक्रमित घर में आइसोलेट हैं। कोविड चिकित्सालय में किसी को भर्ती करने की जरूरत नहीं पड़ी है। स्वास्थ्य विभाग लगातार मरीजों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ले रहा है। प्रतिदिन एक हजार से अधिक लोगों के सैंपल जांच को लिए जा रहे हैं। संक्रमितों के संपर्क में आने वाले, विदेश से आने वालों की जांच कराई जा रही है।

थानाभवन सीट पर अशरफ बने सपा-रालोद गठबंधन उम्मीदवार

शामली: सपा-रालोद गठबंधन से थानाभवन सीट पर अशरफ अली उम्मीदवार बनाए गए हैं। यह सीट भी रालोद के खाते में गई है। शामली सीट पर पहले ही रालोद उम्मीदवार घोषित हो गए थे और कैराना सपा के खाते में है।

गुरुवार को सपा-रालोद गठबंधन के 29 सीट के उम्मीदवारों की सूची आई थी। इसमें शामली और सपा सीट भी शामिल थी, लेकिन थानाभवन सीट पर प्रत्याशी चयन में पेंच फंसा हुआ था। शनिवार को कुल सात सीट की घोषणा हुई, जिसमें थानाभवन भी शामिल है। यहां से उम्मीदवार बने अशरफ अली 2012 में भी चुनाव लड़े और भाजपा के सुरेश राणा से 265 वोट से हार गए थे। वह जलालाबाद नगर पंचायत के चेयरमैन भी रह चुके हैं।

शामली से बिजेंद्र और कैराना से राजेंद्र होंगे बसपा प्रत्याशी

शामली: बसपा ने भी शामली और कैराना सीट पर उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। शामली से बिजेंद्र मलिक और कैराना से राजेंद्र उपाध्याय को प्रत्याशी बनाया गया है। थानाभवन सीट पर अभी घोषणा नहीं हुई है। ऐसे में सभी को बेसब्री से थानाभवन के प्रत्याशी घोषित होने का इंतजार है।

Edited By: Jagran