जेएनएन, शाहजहांपुर : सिपाही पति की मौत प्रकरण में आरोपित पत्नी एक माह से बिना सूचना के गायब है। ऐसे में उनका वेतन भी रोक दिया गया है। 30 मई को सिपाही का कमरे में रस्सी के फंदे से शव लटका मिला था। इस मामले में डायल 112 के सिपाही के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज है।

गाजियाबाद के भोजपुरा थाना क्षेत्र के गांव पट्टी निवासी दिलीप कुमार लखनऊ के बाजार खाला थाने में तैनात थे। उनकी पत्नी आंचल महिला थाने में तैनात हैं। 30 मई को छुट्टी पर आए दिलीप ने तारीन जलालनगर मुहल्ला स्थित किराये के कमरे में फंदे पर लटककर जान दे दी थी। इस मामले में दिलीप के पिता उमेद सिंह ने अपनी बहू व डायल 112 के सिपाही जुबैर खां के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने जब दोनों के मोबाइल की काल डिटेल निकलवाई तो दोनों के बीच काफी नजदीकियां होने की बात सामने आई। इसके बाद पुलिस की जांच पड़ताल ने तेजी पकड़ी तो 17 जून से आंचल बिना सूचना के ही ड्यूटी से गायब हो गई। पुलिस ने जब संपर्क करने का प्रयास किया तब भी कोई जानकारी नहीं मिल सकी। इसके बाद एसपी के आदेश पर उनका वेतन रोक दिया गया। एसपी के पत्र पर हुआ स्थानांतरण

डायल 112 के सिपाही जुबैर की कई शिकायतें मिलने पर एसपी ने उच्चाधिकारियों को पत्र भेजा था। जिसके बाद उसका सात जुलाई को बिजनौर के लिए स्थानांतरण हो गया है। महिला सिपाही बिना सूचना के गायब है। ऐसे में उसका वेतन रोक दिया गया है। मामले की जांच चल रही है। उसी आधार पर आगे की कार्रवाई होगी।

एस आनंद, एसपी