शाहजहांपुर: बुखार का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। बुखार से एक मासूम समेत दो लोगों की और जान ले ली। बंडा क्षेत्र के गांव चांदूपुर पड़री में छह वर्षीय मासूम की मौत हो गई। वहीं कलान क्षेत्र के गांव बाराकलां में एक युवक की मौत हो गई। घर-घर में बुखार में मरीज हो गये हैं। स्वास्थ्य विभाग बुखार पर काबू नहीं कर पा रहा है। बुखार से होने वाली मौतों की वजह से लोगों में दहशत हैं।

संवाद सूत्र, बंडा: क्षेत्र के गांव चांदूपुर पड़री निवासी बलराम के छह वर्षीय बेटे छह वर्षीय बेटे मोनू को चार दिन पहले बुखार की चपेट में आ गया था। परिजनों पहले कस्बा में झोलाछाप से दवा दिलाई। जब उसकी हालत ज्यादा बिगड़ गई तो उसे पीलीभीत के एक निजी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था। सोमवार की सुबह इलाज के दौरान मोनू की मौत हो गई।

दुबई से चले पिता को जीवित बेटे का चेहरा नहीं देखने को मिला

बलराम दुबई के आबूधावी शहर में पेंटर का काम करता था। दो दिन पहले जब बलराम की पत्नी मनोरमा ने बेटे की हालत ज्यादा खराब होने पर बलराम को इसकी सूचना दे दी। बलराम रविवार को दुबई से हवाई जहाज के माध्यम से दिल्ली आया। इसके बाद वह दिल्ली से प्राइवेट गाड़ी करके पीलीभीत पहुंचा, लेकिन उसके पहुंचने से पहले मोनू ने दम तोड़ दिया। बलराम के दो बेटियां साधना और छाया है। दोनों बहनों के बीच मोनू इकलौता बेटा था। उसकी मौत से घर में कोहराम मच गया है। मोनू गांव के प्राथमिक स्कूल में कक्षा दो का छात्र था।

अचानक आये बुखार से युवक की मौत

संवाद सहयोगी: कलान: क्षेत्र के गांव बाराकलां निवासी वेदराम के 26 वर्षीय बेटे नन्हे को सोमवार की दोपहर में अचानक तेज बुखार आ गया। परिजन उसको कस्बा के एक निजी डॉक्टर के पास लेकर गये जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अचानक हुई उसकी मौत से परिवार में कोहराम मच गया। मृतक की मां जमुना देवी बेटी की मौत से बेसुध हो गईं हैं। मृतक छह भाइयों में सबसे छोटा था।

Edited By: Jagran