जेएनएन, शाहजहांपुर : लखनऊ-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात बढ़ने के साथ फिर से जाम लगने लगा है। मंगलवार देर रात स्थित बहगुल नदी के पुल के पास बिहार से पंजाब चावल ले जा रहे कंटेनर का एक्सल टूट गया, जिससे लंबा जाम लग गया। काफी देर बाद यातायात बहाल हुआ, लेकिन सुबह क्रासिग बंद होने के दौरान वाहनों के आड़े-तिरछे खड़े होने के कारण एक बार फिर से जाम की स्थिति बन गई। पुलिस ने करीब एक घंटे बाद यातायात सुचारू कराया।

रात करीब 11 बजे बिहार के दरभंगा से 30 टन चावल लेकर कंटेनर पंजाब जा रहा था। कंटेनर को चालक पंजाब के लुधियाना जिले के थाना कोतवाली के ग्राम दुगरी निवासी अमरदीप सिंह ने बताया कि बहगुल नदी पुल के पास पहुंचते ही अचानक बीच सड़क पर एक्सल टूट गया। कुछ ही देर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर लंबा जाम लग गया। वहां पहुंची पुलिस ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर सड़क की मरम्मत कार्य में लगी जेसीबी की मदद से कंटेनर को सड़क के किनारे कराया।

--------------

यातायात बढ़ने के कारण लग रहा जाम

पिछले दो माह से हाईवे पर यातायात कम था, लेकिन जून की शुरुआत से हाईवे पर यातायात का दबाव बढ़ गया है, जिस कारण हुलासनगरा क्रासिग व बहगुल पुल के पास आए दिन जाम की स्थिति बन रही है। लोगों को घंटों परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। --------------

चेकिग के दौरान जाम का आरोप

जाम के दौरान कुछ प्राइवेट बसें भी फतेहगंज में रुकी थीं। लोगों का आरोप है कि पुलिस चेकिग के नाम पर बसों को अनावश्यक रूप से ज्यादा देर तक रोकती है। जिस कारण जाम लगता है। मंगलवार रात भी यही हुआ। कटरा पुलिस की चेकिग के दौरान जाम लग गया। हालांकि पुलिस ने इससे इन्कार किया है। ओवरब्रिज न बनने के कारण दिक्कत

शाहजहांपुर से बरेली के बीच हाईवे पर जाम का सबसे बड़ा प्वाइंट हुलासनगरा क्रासिग है। कारण यहां पर ओवरब्रिज का अधूरा निर्माण है। क्रासिग बंद होने के दौरान जब वाहन रुकते हैं तो उनमें कई बार चालक आड़े तिरछे वाहन लगा देते हैं। ऐसे में क्रासिंग खुलने पर जाम की स्थिति गंभीर हो जाती है। आए दिन हादसे भी होते हैं। 22 अप्रैल को जाम के कारण क्रासिग बंद न हो पाने और ओवरशूट के कारण ट्रेन वाहनों से टकराने के कारण पांच लोगों की मौत हो गई थी। रात में फतेहगंज पूर्वी थाना क्षेत्र में कंटेनर खराब हुआ था। जिसे हटवाकर यातायात सुचारू करा दिया गया था। कुछ देर ही जाम की स्थिति रही। कोशिश रहती है कि जाम न लगे। प्राइवेट बसों की चेकिग और उसके कारण जाम लगने का आरोप गलत है।

प्रवीण कुमार सोलंकी, प्रभारी निरीक्षक

Edited By: Jagran