शाहजहांपुर : सोमवार को देवोत्थान एकादशी पर्व मनाया जाएगा। पर्व की पूर्व संध्या पर ही इसकी धूम दिखी। शहर में जगह- जगह गन्ना के स्टाल सजा दिए गए। श्रद्धालुओं ने तुलसी- सालिगराम विवाह की तैयारियां भी की है।

मान्यता है कि चातुर्मास निद्रा के बाद भगवान विष्णु कार्तिक मास की एकादशी को जागे थे। इसीलिए इस तिथि को देवोत्थान, देव उठनी व देव प्रबोधिनी एकादशी नाम दिया गया। इस दिन श्रद्धालु भगवान विष्णु का नए अनाज, गन्ना, ¨सघाड़ा आदि से पारंपिक पूजन करते। कई जगह तुलसी - सालिगराम का विवाह के भी आयोजन होते हैं। नगर में कृष्णा नगर मंदिर समेत कई घरों में भी तुलसी सालिगराम के विवाह की तैयारियां की गई है।

-----------------------

इंसेट

10 रुपये तक पहुंचा गन्ना का भाव

देवोत्थान एकादशी पर गन्ना से पूजन की परंपरा का व्यापारियों ने फायदा उठाया। उन्होंने किसानों से गन्ना खरीदकर शहर में सड़कों व चौराहों पर गन्ने के स्टाल लगा दिए। रविवार को दस रुपये प्रति गन्ना की दर से बिक्री हुई।

----------------

इंसेट

कार्तिक मेला में होगा पूजन

देवोत्थान एकादशी से ही ढाई घाट पर गंगा स्नान का भी विधिवत शुभारंभ होता है। जिला पंचायत ने देवोत्थान एकादशी पर विशेष स्नान पूजन की व्यवस्था की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस