जेएनएन, शाहजहांपुर : यदि मेरी मां बाल विवाह से न बचाती तो मैं आइएएस न होता। मेरी मां भले ही अनपढ़ थी, लेकिन परवरिश में उन्होंने इसका कभी अहसास नहीं होने दिया। सुबह चार बजे जगाकर पढ़ने के लिए बिठाना। पशुओं को चारा खिलाने के बाद खेत पर काम करना। अक्षर ज्ञान न होने के बावजूद होमवर्क देखना..। सच में मां ही वो शख्श है जो बच्चों से निस्वार्थ प्यार करती, पूत को सपूत बना देती। प्यार और भगवान का दूसरा नाम है.. मां। यह कहना है आइएएस अधिकारी सीडीओ महेंद्र सिंह तंवर का। मदर्स डे पर उन्होंने अपनी प्रगति के प्रेरणाप्रद प्रसंगों को साझा करते हुए मातृ शक्ति के योगदान को नमन किया।

हरियाण प्रांत के रोहतक जिले के काहनौर गांव निवासी सीडीओ महेंद्र सिंह तंवर ने अपनी कहानी अपनी जुबानी बताया कि पिता ओमप्रकाश सिंह तंवर फौज में थे। चाचा सुरेश पाल व चाची प्रेमवती की मृत्यु हो गई थी। मां गिन्दौड़ी देवी के ऊपर परिवार की जिम्मेदारी थी। बहन सोनिया व बबली के अलावा चचेरी बहन प्रियंका व बनिता की परवरिश में उन्होंने जीजान लगा दी। गांव के सरकारी स्कूल से कक्षा पांच में टॉप करने पर मां बहुत खुश हुई। हरियाणा में डीएम को डीसी कहा जाता है, इसलिए वह बोलती थी तू डीसी बन सकता है। पशुओं को चारा खिलाने व खेत पर काम करते देख जब मां का हाथ बंटाने पहुंच जाता तो वह कहती थी.. तू जा, काम न कर तू डीसी बनके दिखा..। मां के विश्वास व प्रोत्साहन से मैने भी कड़ी मेहनत कर शुरू कर दी। बाल विवाह के लिए पिता से भी लड़ गई मां

कक्षा छह की पढ़ाई के दौरान मेरी उम्र करीब दस साल की थी। रिश्तेदार शादी का दवाब बनाने लगे। फौजी पिता भी माता जी की मदद के लिए शादी को तैयार हो गए। लेकिन मां बाल विवाह की कुरीति के सामने दीवार बनकर खड़ी हो गई। उन्होंने शादी से बचा लिया। यदि शादी हो गई होती तो मैं आइएएस न बन पाता। आइएएस बनने पर खुशी में बांटे लड्डू

इंटर में टॉप करने के बाद टेक्सटाइल्स इंजीनियरिग में बीटेक किया। 2009 से 2011 तक प्राइवेट नौकरी की। तीन साल रक्षा मंत्रालय में रहा। 2015 रेलवे में इंजीनियर हो गया। मां का सपना पूरा करने के लिए 2015 में आइएएस की परीक्षा दी। आइएएस बनने पर मां ने खुशी में पूरे गांव में लड्डू बांटे। अब पत्नी प्रियंका को आइएएस देखना चाह रही मां

सीडीओ महेंद्र सिंह तंवर बताते हैं कि अहमदाबाद की प्रियंका दत्त से 2016 में शादी हुई। पंसद मां ने ही किया था। अब वह प्रियंका को आइएएस देखना चाह रही है। इसके लिए तैयारी शुरू करा दी है।

Posted By: Jagran