जेएनएन, शाहजहांपुर : ठंड के बीच आसमान में छाए बादल रात भर बरसे। इससे रविवार को बारिश का आंकड़ा 18 मिमी पर पहुंच गया। मौसम विज्ञानियों ने दो दिन के भीतर 34 मिमी बारिश को रिकार्ड किया गया है। बारिश से दलहनी, तिलहनी समेत सब्जियों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। कुछ क्षेत्रों में ओलावृष्टि से गेहूं की फसल भी प्रभावित हुई है। किसानों ने आलू की फसल को नुकसान से बचाने के लिए खेतों में कोने पर गढ्ड़ा खुदवाना शुरू कर दिया है। मौसम विज्ञानी डा. अतुल सिंह ने बताया कि सोमवार से बादल छंटने की संभावना जताई है।

आठ जनवरी को जनपद में 16 मिमी तथा नौ जनवरी की शाम को 18 मिमी दर्ज की गई। बादलों की वजह से न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस रहा। रविवार सुबह बारिश के बीच 28 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलने की वजह से दिन में सर्दी रही। तापमान 19.9 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। रीडर कनेक्ट

फोटो 9 एसएचएन 17

बारिश से सरसों समेत आलू की फसल को आंशिक नुकसान हुआ है। अब यदि पानी बरसा तो फसल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। मौसम खुलने पर नुकसान बच जाएगा।

सुखदेव सिह लाडी फोटो 9 एसएचएन 18

25 एकड़ में आलू बोया है। गनीमत रहीं कि ज्यादा बारिश नहीं हुई। फिर भी निकासी के लिए खेत में गड्ढे खुदवा लिए है। ताकि भविष्य में नुकसान से बचा जा सके।

अमनदीप सिंह बारिश से गेहूं की फसल को लाभ होगा। दलहनी व तिलहनी फसलों को आंशिक नुकसान हुआ है। लेकिन बारिश थमने पर नुकसान का असर कम हो जाएगा।

डा. सतीश चंद्र पाठक, जिला कृषि अधिकारी

Edited By: Jagran