जेएनएन, शाहजहांपुर : समाजवादी पार्टी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव दो दिन बाद शनिवार को आ रहे हैं। वह यहां बंडा के नानकपुरी गुरुद्वारे में संत सुखदेव सिंह भूरिवालों की सालाना बरसी में शामिल होंगे। अखिलेश यहां धार्मिक आयोजन में आ रहे हैं, लेकिन इसके जरिए व सिख मतदाता व किसानों को बड़ा संदेश देने की कोशिश में हैं।

खेती-किसानी में अव्वल होने के कारण पुवायां तहसील मिनी पंजाब कही जाती है। यहां के बंडा व खुटार ब्लाक में सिख समाज के लोगों की संख्या ज्यादा है। ऐसे में जब कुछ माह बाद चुनाव होने हैं। अखिलेश यादव का बंडा आने और यहां सिखों के बड़े धार्मिक स्थल सुनासर घाट स्थित बड़ा गुरुद्वारा नानकपुरी में संत सुखदेव सिंह जी की बरसी में शामिल होना काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। उनके इस आगमन के राजनीतिक अर्थ निकाले जा रहे हैं। ऐसे समय में जब बंडा व खुटार से बड़ी संख्या में किसान गाजीपुर बार्डर पर आंदोलन में शामिल हो चुके हैं। अखिलेश का आगमन सिख समाज व किसानों को प्रभावित कर सकता है। अखिलेश यहां से शहर भी आएंगे। वह लोध समाज के बड़े नेता व सपा सरकार में राज्यमंत्री रहे राममूर्ति सिंह वर्मा को श्रद्धांजलि देने उनके आवास पर पहुंचेंगे। अब रोजा टाउनशिप में उतरेंगे

अखिलेश 11 बजकर 40 मिनट पर गुरुनानक देव इंटर कालेज देवरास बंडा के हेलीपैड पर उतरेंगे। यहां से गुरुद्वारा नानकपुरी पहुंचेंगे। एक घंटे से भी ज्यादा समय तक रुकेंगे। इसके बाद एक बजकर 10 मिनट पर शहर के रोजा थर्मल पावर टाउनशिप के लिए रवाना होंगे। जहां से इंदिरा नगर जाकर पूर्व मंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा के आवास पर जाएंगे। अखिलेश का हेलीकाप्टर पहले पुलिस लाइंस में उतरना था, लेकिन अनुमति न मिलने के कारण कार्यक्रम में बदलाव हुआ।

Edited By: Jagran