जेएनएन, निगोही, शाहजहांपुर : संदिग्ध परिस्थितियों में लगी आग से दंपती समेत सात लोग झुलस गए थे। जिसमे महिला की बुधवार देर रात इलाज के दौरान मौत हो गई। आग लगने की मुख्य वजह पता नहीं लग पाई है।

क्षेत्र के गुरगवां में बुधवार शाम को रामवीर के घर में संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई थी। जिससे रामवीर, उनकी पत्नी विमला, पिता मेवाराम, मां वीरावती, बहन सरस्वती, भाई सतेंद्र व बेटा अंशुल झुलस गए थे। बुधवार देर रात विमला को बरेली के लिए रेफर कर दिया गया। स्वजन जब उन्हें ले जाने की तैयारी कर रहे थे तो उनकी मौत हो गई। डॉक्टरों ने मेवाराम, वीरावती, सरस्वती व रामवीर को लखनऊ रेफर कर दिया गया। घटना के बाद रामवीर खाना बनाते समय सिलेंडर लीक होने से आग लगने की बात कह रहा था।

पुलिस पर लगाया बच्चों को छिपाने का आरोप

मृतका के स्वजन जब गांव पहुंचे तो वहां अंशुल व उसका छोटा भाई प्रेम नहीं मिले। गांव में भी लोगों से इसके बारे में जानकारी की लेकिन वह कुछ बता नहीं सके। इसके बाद उन्होंने पुलिस पर बच्चों को गायब करने का आरोप लगाते हुए हंगामा करना शुरु कर दिया। पुलिस ने उन्हें समझाकर शांत कराया। कुछ देर बाद पुलिस वहां से चली गई। जिसके बाद बच्चे भी वापस आ घर आ गए।

बेटे ने कहा पापा ने लगा दी आग

मृतका के बेटे ने पिता पर पेट्रोल डालकर आग लगाने का आरोप लगाया। हालांकि पुलिस इस तरह की जानकारी होने से इन्कार कर रही है।

वर्जन

बच्चे गांव में ही अपने एक परिचित के साथ में थे। मृतका के बेटे से अभी इस संबंध में पुलिस की कोई बात नहीं हुई है कि आग कैसे लगी। विवाद के दौरान ही आग लगने की संभावना लग रही है।

मनोहर सिंह, प्रभारी निरीक्षक

------

गंभीर रूप से घायलों को लखनऊ भिजवा दिया गया है। मामले की जांच कराई जा रही है। उसी आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

संजय कुमार, एएसपी सिटी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस