शाहजहांपुर : आशा कार्यकर्ताओं का धरना-प्रदर्शन लगातार तीसरे दिन भी जारी रहा। बकाया मानदेय सहित अन्य चार सूत्रीय मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री को संबोधित मांग पत्र सीएमओ को ज्ञापन दिया। जिसमें कहा है कि एनएचएम के अंतर्गत आशा वर्कर 2005 से अब तक कार्य कर रही है जो उसकी धनराशि 2005 में भी वहीं धनराशि आज भी दी जा रही है। लेकिन सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों व दैनिक वर्कर का वेतन हर साल बढ़ोत्तरी होती है। आशा व आशा संगिनियों को दी जाने वाली धनराशि में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है। मांग पत्र में कहा गया कि सभी कार्यकर्ताओं को राज्य कर्मचारियों की तरह सेवाएं उपलब्ध करायी जाए। ज्ञापन में कहा गया है कि हरियाणा, उत्तरांचल आदि प्रदेशों में आशाओं को चार से पांच हजार रुपये मानदेय के रूप में दिए जा रहे है जबकि हम लोगों के साथ पक्षपात किया जा रहा है। इसके अलावा आशा कार्यकर्ताओं की स्थानीय स्तर की समस्याओं का भी निराकरण कराने की मांग की गई है। इस मौके पर जिलाध्यक्ष कमलजीत कौर, मीडिया प्रभारी र¨वद्रा, आशा देवी, सुनीता ¨सह, विजय लक्ष्मी शर्मा, सरोजनी देवी, रामसुखी, शांति, ममता ¨सह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran