जागरण संवाददाता, शाहजहांपुर : 53 साल में 200 किरदार, वह भी एक मंच पर। वाकई यह उपलब्धि सामान्य शख्स के लिए संभव नहीं। मर्यादा पुरुषोत्तम की कृपा से यह सम्मान मिला ओसीएफ रामलीला मंचन समिति के संयोजक व निर्देशक मंडल के सलाहकर सत्यनारायण जुगून को। इस वर्ष वरिष्ठतम कलाकार ने 62 वां जन्मदिन मनाया। गत वर्ष उन्होंने सुंदरी सूपर्णखा अभियान किया था। सुरीली आवाज, मनमोहक अदाकारी से जुगनू रामलीला को मनोरंजक व सरस भी बना देते हैं। इस वर्ष उन्होंने किन्नर का अभियान किया।

--------------------

9 साल की उम्र में मिला था प्रवेश

ओसीएफ रामलीला मैदान में 60 के दशक में रामलीला मंचन का श्रीगणेश हुआ। 9 साल की उम्र में सत्यनारायण जुगनू को रामलीला में बाल वानर का किरदार मिला। करीब एक दशक से मंचन समिति के महामंत्री का दायित्व निभाने वाले जुगनू महिला पात्र के रूप में फिट व हिट रहे। सती सुलोचना व सुंदरी सूपर्णखा का किरदार आज भी लोग पसंद कर रहे। फिल्मी धुन पर मंच पर उनका नृत्य भी गजब का रहता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस