जागरण संवाददाता, शाहजहांपुर : बुखार का कहर लगातार जारी है। शनिवार को बुखार ने 12 लोगों को मौत की नींद सुला दिया। क्षेत्र के खजुरी गांव में बुखार से एक ही दिन में पांच मौतों से हाहाकार मच गया। रहस्यमयी बुखार के कारण स्थानीय लोगों मे खौफ है। लोगों का कहना है कि सूचना देने के बाद भी अब तक स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोई भी गांव में नहीं पहुंचा। जबकि इस वक्त गांव में एक एक घर में दो दो लोग बुखार से तप रहे हैं। यही स्थिति परौर क्षेत्र के गांवों में है। इन लोगों की हुई मौत

कलान क्षेत्र के गांव खजुरी में पांच मौत से कोहराम मच गया है। इसमें र¨वद्र का 15 वर्षीय बेटा दीपू, जदुनाथ की 40 वर्षीय पत्नी राजकुमारी, 55 वर्षीय रोशन, 40 वर्षीय रामवीर और 60 वर्षीय रामदुलारे हैं। वहीं परौर क्षेत्र के गांव कादराबाद निवासी सर्वेश गौतम की 35 वर्षीय पत्नी सुशीला देवी और इसी थाना क्षेत्र के गांव पच देवरिया निवासी 45 वर्षीय हरिपाल की बुखार आने से मौत हो गई। आरसी मिशन क्षेत्र के गांव ग्वारी निवासी लालाराम के 12 वर्षीय बेटे आकाश उर्फ अमन, रोजा क्षेत्र की न्यू चर्च कॉलोनी निवासी राजपाल के 11 वर्षीय बेटी शिवानी, कांट क्षेत्र के गांव कमलनैनपुर निवासी कृष्णकांत की छह वर्षीय बेटी नैना, निगोही क्षेत्र के गांव ढेलखेड़ा निवासी शमशाद की नौ वर्षीय बेटी अनमता, जलालाबाद के मुहल्ला शास्त्री नगर कॉलोनी निवासी 65 वर्षीय प्रेमवती दीक्षित की बुखार से मौत हो गई। जिले अब तक बुखार से 48 मौत हो चुकी है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग बुखार से एक भी मौत मानने को तैयार नहीं हैं। खुदागंज में बुखार ने ले ली तीन की जान

संवाद सूत्र, खुदागंज: बुखार की चपेट में एक बच्ची और एक युवती की मौत हो गई। क्षेत्र के गांव नवादा दरोबस्त निवासी ओमवीर ¨सह की पांच वर्षीय बेटी रोली को शुक्रवार की रात तेज बुखार आया। परिजनों ने कस्बा के एक झोलाछाप से उसको दवा दिलवा दी। शनिवार की दोपहर उसकी हालत बिगड़ी और मौत हो गई। ओेमवीर की 14 वर्षीय बेटी सलोनी, 10 वर्षीय बेटी उजाला, सात वर्षीय बेटी स्वाति, छह वर्षीय बेटा मोहित बुखार से पीड़ित हैं। वहीं क्षेत्र के गांव गुइरे में निवासी राजकुमार ¨सह की 20 वर्षीय बेटी सरिता की तीन-चार दिन से बुखार आ रहा था। उसका इलाज फरीदपुर के प्राइवेट चिकित्सक से चल रहा था। शुक्रवार की स्वास्थ्य विभाग की तरफ से लगाये गये कैंप में भी सरिता से दवाई ली थी। लेकिन उसको कोई फायदा नहीं हुआ। शनिवार की शाम को उसको घर में दम तोड़ दिया। वहीं क्षेत्र के गांव रामेश्वरगंज गौटिया निवासी श्रीपाल की 14 वर्षीय बेटी छंगा को करीब चार दिन से बुखार आ रहा था। परिजन उसका झोलाछाप से इलाज करा रहे थे। शनिवार की शाम उसने घर में दम तोड़ दिया।

Edited By: Jagran