संतकबीर नगर:स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में संसाधनों के अभाव के कारण मरीजों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। यहां जांच मशीनों की कमी के कारण अक्सर लोगों को बाहर से जांच करवाने की मजबूरी होती है। कहने के लिए तो मेंहदावल सीएचसी है,जहां प्रत्येक सुविधाओं के होने का दावा किया जाता है। यहां अल्ट्रासाउंड मशीन नहीं लग सका है।

यहां खून जांच से लेकर एक्सरे मशीन और पीकू का निर्माण कराया गया है। जांच के नाम पर मरीजों से वसूली का आरोप लगता रहता है। इससे व्यवस्था पर सवाल खड़ा होता है। दुर्घटना के मामलों में मरीजों को तत्काल रेफर करने के कारण इसे रेफर अस्पताल का भी नाम दे रखे हैं। सबसे बड़ी समस्या लोग अल्ट्रासाउंड मशीन को लेकर झेलते है। ज्यादातर बीमारियों में बिना अल्ट्रासाउंड जांच के आगे का उपचार संभव नहीं होता। मरीजों को जिला अस्पताल या निजी अस्पतालों की शरण लेनी पड़ती है। लंबे समय से यहां मशीन स्थापित करने की मांग चल रही है लेकिन जिम्मेदारों ने खामोशी की चादर तान रखी है।जांच के नाम पर मरीजों की जेब पर बोझ पड़ रहा है। मजे की बात यह है कि सीएचसी पर लगे बोर्ड में अल्ट्रासाउंड मशीन उपलब्ध होने का दावा करते हुए जांच निश्शुल्क बताया गया है। सीएचसी प्रभारी अनिल चौधरी ने बताया कि अल्ट्रासाउंड मशीन के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। मंजूरी मिलने के बाद सीएचसी को अल्ट्रासाउंड मशीन से लैस किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस