संतकबीर नगर: हैंसर ब्लाक के अहरा गांव में विकास कार्यों में अनियमितता बरते जाने की शिकायत पर परियोजना निदेशक (पीडी) डीडी शुक्ल ने जांच किया। गांव में कई योजनाओं में कमी पाई गई है। प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए कई लोगों को दो किस्त जारी होने के बाद भी अभी काम अधूरा मिलने पर उन्होंने जिम्मेदारों की जमकर क्लास ली। उन्होंने बीडीओ को नोटिस जारी करने का निर्देश देते हुए गांव के सभी आवासों की आख्या तीन दिन के अंदर प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही उन्होंने अपात्रों से सरकारी धन की वसूली करने को कहा।

अहरा गांव के राम परीक्षा सिंह, हरिकेश यादव, जीत बहादुर सिंह, चंद्र बहादुर सिंह ने गांव के विद्यालय की रंगाई पुताई, इंटरलाकिग कार्य, पंचायत भवन निर्माण, आवास वितरण में बड़े पैमाने पर धांधली के साथ ही शौचालय योजना में अनियमितता बरते जाने का आरोप लगाते हुए मुख्य विकास अधिकारी से जांच करवाने की मांग की थी। शिकायत पर मुख्य विकास अधिकारी ने पीडी को शनिवार को मौके पर जांच करने के लिए भेजा। जांच के दौरान पीडी ने पाया कि 2020-21 में कुल 49 आवास धारकों को आवास दिया गया है। जिसमें 10 लोग दूसरी किस्त जारी होने के बाद भी अभी आवास पूरा नहीं कर पाए हैं, जिस पर उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि बीडीओ के नेतृत्व में एक टीम रविवार को भी गांव में जाकर एक-एक आवास की जांच करेगी। जिनका भी आवास दूसरी किस्त लेने के बाद अधूरा है उन्हें तत्काल नोटिस जारी की जाएगी। जांच में कुछ लोग अपात्र दिख रहे हैं, ऐसे लोगों से रिकवरी के साथ ही मुकदमा भी दर्ज होगा। जांच के दौरान ग्राम सचिव के गायब रहने पर उन्होंने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि गांव में सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का हाल बुरा है। कई योजनाओं में भ्रष्टाचार हुआ है। जांच के बाद कार्रवाई तय है। इस मौके पर बीडीओ अमरेश सिंह चौहान, एडीओ पंचायत शिवकुमार तिवारी, हेमंत मिश्र के अलावा गांव के तमाम लोग मौजूद रहे। कार्यस्थल पर जाबकार्ड साथ लाएं मनरेगा मजदूर

संतकबीर नगर: ग्राम पंचायत सैथवलिया-सुटेहरा में चल रहे मनरेगा के काम का शनिवार को उपायुक्त मनरेगा उमाकांत त्रिपाठी ने स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने मनरेगा मजदूरों से कार्य संबंधित जानकारी ली और उन्हें योजना के बारे में बताया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सभी मजदूर कार्यस्थल पर अपना जाबकार्ड जरूर लेकर आएं, जिससे जांच करने में आसानी हो।

गांव में मनरेगा के तहत जमील के खेत से अमृतलाल के घर तक चल रहे मिट्टी पटाई के कार्य को देखा तथा अभिलेखों के साथ योजना का मिलान किया। उन्होंने यह भी देखा कि योजना में जितने मजदूर दर्शाए गए हैं उतने हैं की नहीं। मौके पर कुछ मजदूर कम मिले, जिसके बारे में उन्होंने जिम्मेदारों से पूछताछ की। मौके पर काम कर रहे मजदूरों से जाबकार्ड मांगने पर कुछ मजदूरों द्वारा बताया गया कि जाबकार्ड घर पर है, जिस पर उन्होंने ने संबंधित सचिव को निर्देश दिया कि मनरेगा कार्यस्थल पर कार्य करते समय मजदूर अपने साथ जाब कार्ड अवश्य लाएं। इसके पूर्व उपायुक्त ब्लाक मुख्यालय पर पहुंचकर मनरेगा से संबंधित फाइलों और कार्यों के प्रगति की समीक्षा की। कुछ कमियां मिलने पर उन्होंने कार्रवाई की चेतावनी भी दी। इस मौके पर ग्राम पंचायत अधिकारी असदुल्लाह, तकनीकी सहायक श्रीशचंद्र मिश्र, आसिफ अली, इरफान अहमद, अल्ताफ अहमद आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran