संतकबीर नगर : सेमरियावां-टेमा मार्ग पर जानलेवा बने गड्ढों में पानी भर जाने से सड़क की दशा तालाब जैसा हो गई है। जिससे जनपद और ब्लाक पर जाना मुश्किल हो गया है। सड़क का निर्माण कार्यदायी संस्था ने लगभग छह माह पूर्व टेमा चौराहे से प्राथमिक विद्यालय बिगरामीर तक बना कर बिगरामीर गांव से सेमरियावां कस्बे के बीएमसीटी सड़क तक लगभग एक किलोमीटर अधूरा छोड़ दिया। जो बदहाल और जान लेवा गड्ढे में तब्दील है जिस पर अन्य मौसम में भी पैदल चलना मुश्किल रहा। बारिश से इन जान लेवा सड़क के गड्ढों मे पानी भरा है जिसमें वाहन चालकों के आने जाने मे काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा। विभाग की सुस्ती के चलते राहगीर परेशान होकर जनपद ब्लाक मुख्यालय का सफर कर रहे हैं। क्षेत्र के सुखसागर, डा. जावेद अहमद, मास्टर सेराज अहमद, कलीमुल्लाह कहते हैं कि सड़क जब आगे तक बना दिया गया।तो एक किलोमीटर सड़क क्यों छोड़ दिया गया इस कमी को कोई अधिकारी नही देखा।जो दशा एक दशक से इस सड़क का रहा वैसे ही आज भी है।जब कि जिला तथा ब्लाक अस्पताल तक आने जाने के लिए यही एक मात्र सड़क है।अभी ठंड का मौसम है थोड़ी सी बारिश मे सड़क की दशा जब तालाब जैसा हो गया तब तो बारिश के मौसम मे इस सड़क पर नाव की जरूरत पडेगी।लोगो ने अधूरे पड़े सड़क को ठीक कराए जाने की मांग की है।

Posted By: Jagran