संतकबीर नगर : बेसिक क्रीड़ा प्रतियोगिता के आयोजन के लिए बुधवार को ब्लाक संसाधन केंद्र खलीलाबाद में बैठक हुई। यहां परिषदीय विद्यालयों के ब्लाक स्तरीय, जनपदीय व मंडलीय खेल प्रतियोगिता कराने पर विमर्श किया गया। कितु खेल को लेकर मेल नहीं बैठाया जा सका। कुछ शिक्षकों ने नारेबाजी करके विरोध जताया। बिना किसी निर्णय के बैठक निरस्त हो गई। अब अगली बैठक में अक्टूबर माह के दूसरे सप्ताह से प्रतियोगिता कराने की तिथि तय की जाएगी।

प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी गिरीश कुमार सिंह ने शिक्षकों का खेल के प्रति रुझान बढ़ाते हुए बच्चों की प्रतियोगिता कराने की बात कही। उन्होंने शिक्षकों की रुचि जानी और विद्यालय में खेल के प्रति जोर दिया। साथ के प्रतियोगिता के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों (बीईओ) व खेल शिक्षकों से सुझाव मांगा। शाम को बैठक चल रही थी कि चार बजे के करीब बैठक के बीच में एक शिक्षक संगठन के पदाधिकारी कक्ष में पहुंच गए। इस बीच प्रभारी बीएसए से कहा सुनी हुई। फिर अचानक शिक्षकों ने नारेबाजी शुरू कर दी। शिक्षकों व अधिकारियों के समझाने पर भी बात नहीं बनी और बैठक बिना किसी निष्कर्ष के स्थगित कर दी गई। इससे पूर्व राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ जिलाध्यक्ष नवीन कुमार त्रिपाठी ने कहा कि प्रतियोगिता विभागीय खर्च पर कराया जाए। यदि शिक्षकों से चंदा लिया जा रहा तो उसके आयोजन की सभी जिम्मेदारी भी दी जाए। बीईओ जनार्दन प्रसाद, अनूप कुमार त्रिपाठी, ऋषिकेश सिंह, ध्रुव जायसवाल, आशीष सिंह, जिला व्यायाम शिक्षक इंद्रेश पांडेय, उच्च प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष अशोक गुप्ता, चंद्रकला, अकादमिक रिसोर्स पर्सन मनोज पांडेय, अमरेश चौधरी, भवानी शंकर श्रीवास्तव, मीरा भारती, चंद्रप्रकाश शर्मा, सुनील चौबे आदि ने विषय रखा। नारेबाजी करके लगाया आरोप

प्राथमिक शिक्षक संघ के सदस्यों ने खलीलाबाद बीआरसी परिसर व इसके बाद जूनियर हाईस्कूल पहुंचकर नारेबाजी के साथ प्रदर्शन किया। जिलाध्यक्ष अंबिका देवी, केसी सिंह, सुयेब अहमद आदि ने प्रभारी बीएसए पर अपमान करने का आरोप लगाया। प्रभारी बीएसए का कहना है सभी के सहयोग से आयोजन किया जाता है। कुछ शिक्षक स्वयं आयोजन की जिम्मेदारी मांग रहे थे, जो नियम विरुद्ध है। आरोप बेबुनियाद है। खेल शिक्षकों से बातचीत करके तिथि तय की जाएगी।

Edited By: Jagran