संतकबीर नगर : मेंहदावल के पूर्व चेयरमैन मोतीलाल जायसवाल व उनकी पत्नी व वर्तमान चेयरमैन प्रमिला जायसवाल पर लोकसेवक रहते हुए पद का दुरुपयोग करते हुए शासन से आए धन का बंदरबांट करने एवं आय से अधिक संपत्ति इकट्ठा करने का आरोप है। इस मामले में लोकायुक्त के निर्देश पर गुरुवार को एडीएम की अध्यक्षता में त्रिस्तरीय कमेटी मेंहदावल के लोक निर्माण विभाग के डाक बंगले में पहुंचकर जांच शुरू की। इस दौरान शिकायतकर्ता अनुराग त्रिपाठी ने 158 पन्नों का साक्ष्य कमेटी को उपलब्ध कराया। इसके साथ ही चेयरमैन ने भी शिकायतकर्ता के द्वारा लगाए गए आरोपों पर अपना जवाब व साक्ष्य कमेटी के समक्ष रखा। कमेटी के द्वारा विभिन्न परियोजनाओं का मौके का स्थलीय निरीक्षण कर जायजा लिया गया।

एडीएम मनोज कुमार सिंह की अध्यक्षता में गठित त्रिस्तरीय कमेटी गुरुवार की सुबह 11 बजे पहुंची। इसके साथ ही शिकायतकर्ता भी मौके पर पहुंचे। पूर्व चेयरमैन मोती लाल जायसवाल कमेटी के समक्ष प्रस्तुत हुए। पुलिस बल की तैनाती के बीच डाक बंगले में आरोपों की जांच शुरू की गई। इस बीच शिकायतकर्ता ने लगाए गए आरोपों के संदर्भ में 158 पन्नों का साक्ष्य संलग्नक जांच कमेटी को सौंपा। पूर्व चेयरमैन ने भी अपना साक्ष्य कमेटी को सौंपा तथा संपत्ति के बारे में उन्होंने कुछ हलफनामा भी प्रस्तुत किया। जिसकी जांच करने की बात कमेटी के द्वारा कही गई है। 12.30 बजे जांच टीम मेंहदावल तहसील के पास बन रहे निर्माणाधीन पार्क पर पहुंची। लगभग एक करोड़ की लागत से इस पार्क का निर्माण किया जा रहा है। शिकायतकर्ता ने पार्क बनाने के उद्देश्य पर सवाल खड़ा करते हुए पार्क के ऊपर से हाई वोल्टेज करंट प्रवाहित होने का हवाला देते हुए शासन के धन का दुरुपयोग करने का आरोप जांच कमेटी के समक्ष लगाया। इसके साथ ही जांच टीम कांटी व कुस़फर मोहल्ले में इंटरलाकिग व नाली निर्माण के परियोजना का स्थलीय निरीक्षण किया। अधिशासी अधिकारी व कार्यदायी संस्था से सवाल-जवाब किए गए। टीम दो बजे पंडितपुरवा में बने शवदाहगृह पर पहुंची। यहां पर निर्माण कार्य व धन आवंटन के बारे में सवाल जवाब किया गया।

-----------------

स्थलीय निरीक्षण के दौरान दोनों पक्षों में हुई तनातनी

कांटी में इंटरलाकिग व नाली निर्माण के जांच के दौरान आरोप-प्रत्यारोप के बीच में दोनों पक्षों में हल्की झड़प हुई। अधिकारियों ने लोगों को शांत करा दिया। पंडितपुरवा में शवदाहगृह के स्थलीय निरीक्षण के दौरान भी दोनों पक्षों में बहस हुई। दोनों पक्षों से आरोप-प्रत्यारोप जमकर लगाए गए। गाली गलौज तक मामला पहुंच गया। एसडीएम अजय कुमार त्रिपाठी व पुलिस बल की सक्रियता से विवाद होते होते टला।

-----------------

यह है आरोप

मेंहदावल के पश्चिमटोला निवासी अनुराग त्रिपाठी ने लोकायुक्त के समक्ष परिवाद दाखिल कर पूर्व चेयरमैन व उनकी पत्नी पर लोक सेवक रहते हुए आय से अधिक संपत्ति बनाने का आरोप लगाया है। आरोप है कि शवदाहगृह के निर्माण में अनियमितता बरतने, अस्पताल तिराहे के सड़क पर दो बार भुगतान करने, कांटी व कुस़फर मोहल्ले में इंटलाकिग व नाली निर्माण में अनियमितता बरतते हुए हुए शासन के धन का बंदरबांट किया गया है। लोकायुक्त के सचिव ने दाखिल परिवाद पर डीएम दिव्या मित्तल को त्रिस्तरीय कमेटी गठित कर जांच करने का निर्देश दिया था। इस मामले में डीएम ने एडीएम मनोज कुमार सिंह की अगुवाई में त्रिस्तरीय कमेटी का गठन किया है।

----------------

मेंहदावल में गर्म रहा माहौल

लोकायुक्त जांच के मामले को लेकर पूरा दिन मेंहदावल कस्बा गर्म रहा। जांच प्रक्रिया को शांतिपूर्ण तरीके से निपटाने के लिए भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। एसडीएम अजय कुमार त्रिपाठी, अधिशासी अधिकारी प्रदीप कुमार शुक्ल सहित अनेक अधिकारी व पुलिसकर्मी मौके पर मौजूद रहे। जांच को लेकर मेंहदावल में तरह-तरह की चर्चा होती रही। दोनों पक्षों से उनके समर्थकों का गेस्ट हाउस के बाहर जमावड़ा लगा रहा। कौन हैं अनुराग त्रिपाठी

अनुराग त्रिपाठी मेंहदावल कस्बे के पश्चिम टोला के निवासी हैं। इन्होंने एमबीए की पढ़ाई पूरी की है। वर्तमान समय में यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) व भाजपा से जुड़े हैं। इनके चाचा पवन तिवारी मेंहदावल नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष रहे हैं। साथ ही साथ इनके दूसरे चाचा भूपेंद्र त्रिपाठी भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष रहे है। वर्तमान में इनका परिवार भाजपा से जुड़ा हुआ है। अनुराग के पिता अनिरुद्ध त्रिपाठी कस्बे में बिल्डिग मैटेरियल की थोक दुकान चलाते हैं। लोकायुक्त के निर्देश पर डीएम ने त्रिस्तरीय कमेटी का गठन करते हुए जांच का निर्देश दिया था। निर्देश के क्रम में दोनों पक्षों से अभिलेख व साक्ष्य लिया गया है। परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण किया गया है। जांच प्रचलित है। समय से रिपोर्ट लोकायुक्त को प्रेषित की जाएगी।

मनोज कुमार सिंह, एडीएम व जांच कमेटी के अध्यक्ष। पूरे मामले की जांच शांतिपूर्ण तरीके से हुई है। दोनों पक्षों में हल्का-फुल्का कहासुनी व आरोप प्रत्यारोप हुआ है, लेकिन समय रहते उसको पुलिस प्रशासन ने शांत कराया। जांच के दौरान पूरी तरीके से शांति व्यवस्था कायम रही।

अजय कुमार त्रिपाठी, एसडीएम, मेंहदावल।

Edited By: Jagran