संतकबीर नगर: कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को स्रोत पर कटौती(टीडीएस)व आयकर विषय से संबंधित कार्यशाला का आयोजन किया गया। डीएम रवीश गुप्त की मौजूदगी में भारत सरकार के फैजाबाद स्थित कार्यालय से आए आयकर अधिकारी(टीडीएस)सुनील कुमार श्रीवास्तव, आयकर निरीक्षक गुंजन गुप्त, वरिष्ठ कर सहायक धर्मेंद्र कुमार मिश्र व सीए अजीत चौधरी ने जिले के आहरण-वितरण अधिकारियों(डीडीओ)को इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस दरम्यान विभिन्न विभागों के डीडीओ ने कई सवाल पूछे और इन्होंने इसका जवाब दिया। ऐसा करके इन्होंने इनकी जिज्ञासा को शांत किया।

आयकर अधिकारी(टीडीएस)ने बगैर नाम लिए एक जिले व एक शिक्षक के बारे में कहा कि उन्होंने अपनी आयकर की सीमा गलत बताई। केवल यही नहीं अपितु तमाम शिक्षक ऐसा जरूर करते हैं। ईश्वर न करें, किसी अधिकारी-कर्मचारी के घर छापा पड़े। इसलिए सतर्क रहे। इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य सभी डीडीओ को टीडीएस के बारे में जागरूक करने की है। डीडीओ को कर जमा करने के लिए समय एवं उस पर लगने वाली धारा 201 के तहत मिलने वाले ब्याज के बारे में जानकारी दी जाएगी। ई-फाइलिग के बारे में इन्होंने कहा कि इसे विलंब से दाखिल करने पर सीपीसी गाजियाबाद द्वारा प्रोसेसिग के समय आयकर अधिनियम की धारा 234 ई के तहत 200 रुपये प्रतिदिन की दर से अर्थदंड लगा दिया जाएगा, इसलिए सतर्कता बरतें। वरिष्ठ कर सहायक ने कहा कि कई अधिकारी, कर्मचारी ऐसे होते हैं, जो एक ही पालिसी को हर जगह लगा देते हैं। आयकर समय से फाइल करनी चाहिए, यह भी देखना चाहिए कि जो पिछले साल भरा गया है, वह सही है या नहीं ? कई डीडीओ ने कहा कि टीडीएस कटौती के पैसे के लिए इंतजार करना पड़ता है। इस पर इन्होंने जवाब दिया कि इसकी प्रोसेसिग डेट होती है, घबराने की बात नहीं है। साफ्टवेयर से यह प्रक्रिया होती है। आनलाइन यह सब होता है, इससे बचा नहीं जा सकता, कर चोरी देर-सबेर पकड़ में आ ही जाती है। एडीएम रणविजय सिंह, प्रभारी एसटीओ अतुल पाण्डेय आदि अधिकारी मौजूद रहे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस