संतकबीरनगर : गुरुवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खलीलाबाद में मानसिक रोगियों की पहचान के लिए जांच शिविर का आयोजन किया गया। विशेषज्ञों ने 170 मरीजों के स्वास्थ्य की जांच की। 47 मानसिक रोग से ग्रसित मिले। सभी को उपचार के लिए जिला अस्पताल में बने मानसिक वार्ड में भेजा गया।

शिविर में मौजूद लोगों को जानकारी देते हुए जिला क्षय रोग अधिकारी डा. एसडी ओझा ने कहा कि किसी प्रकार की समस्या होने पर तत्काल प्रशिक्षित चिकित्सक से संपर्क किया जाना चाहिए। लंबे समय के बाद बीमारियों के इलाज की प्रक्रिया भी लंबी हो जाती है। मानसिक रोग विशेषज्ञ डा. एके श्रीवास्तव ने मानसिक रोग के लक्षणों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि मानसिक रोग किसी को भी हो सकता है। यह रोग न विचित्र है न ही कलंक। इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। नींद न आना, उदास व मायूस रहना, आत्महत्या करने पर विचार करना, बेवजह शक से ग्रसित होना, आवश्यकता से अधिक सफाई करना या एक ही कार्य को कई बार करना आदि लक्षण सामने आने पर चिकित्सक के पास जाना चाहिए । शिविर में आए हुए लोगों की जांच की गई। इस मौके पर प्रभारी चिकित्साधिकारी डा.वीपी. पांडेय,डा. अमित चौधरी, अमरेंद्र कुमार, डा. विनय कुमार, डा. इश्तियाक अहमद,डा. सुखदेव,डा.आलोकश्रीवास्तव,डा.नूरी खान,डा.निधि गुप्त,डा. रेखा यादव समेत अनेक लोग मौजूद रहे ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस