संतकबीर नगर। सिंचाई विभाग में आपरेटर की नौकरी दिलाने के नाम पर एक व्यक्ति से छह लाख की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। ठगी करने वाले ने स्वयं को सिंचाई विभाग में इंजीनियर बताते हुए बेरोजगार युवक से रुपए लेने के बाद जानमाल की धमकी दे रहा है। कोतवाली पुलिस ने इस मामले में डीआइजी के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर जांच कर रही है।

यह है मामला

बखिरा थाना क्षेत्र के देवलसा निवासी जयहिन्द ने बताया कि वह अध्यापक के पद पर कार्यरत हैं। मेरा छोटा भाई बेरोजगार है। एक परिचित लड़के के द्वारा मनोज मिश्रा से मेरी मुलाकात हुई। उन्होंने अपने को सिंचाई विभाग में इंजीनियर होना बताया और कहा कि सिंचाई विभाग में नल आपरेटर का पद निकला है। नियुक्ति अधिकारी हमारे रिश्तेदार हैं। मैं आपके भाई की नियुक्ति करवा दूंगा। मनोज ने अपने मोबाइल से कथित अधिकारी से मेरी बात भी करवाई।

खाते से ट्रांसफर किए रुपये

उसने कहा कि छह लाख रुपये की व्यवस्था कर दीजिए, नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हो गई है। मैंने एक लाख रुपया नकद खलीलाबाद में मनोज मिश्रा को दिया और 423000 रुपया अपने खाते से आनलाइन मनोज मिश्रा के खाता में अलग-अलग तिथियों पर ट्रांसफर किया। करीब चार माह बीत जाने के बाद कोई प्रक्रिया मनोज मिश्रा द्वारा नहीं की गई तब मुझे संदेह हुआ और मैं उनसे पूछताछ करने लगा। उसी दौरान पता चला कि मनोज मिश्रा किसी पद पर कार्यरत नहीं हैं, और पूरी तरह से फ्राड हैं। मैंने अपना पैसा उससे मांगा तो हिलाहवाली करने लगे। कोतवाली प्रभारी विजय नारायण प्रसाद ने बताया कि घटना के मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

खलासी ने पिता-पुत्र पर दर्ज करवाया मुकदमा

एक निजी बस के खलासी की तहरीर पर महुली पुलिस ने हादसे में मरे अब्दुल्लाह के पिता इसरार व उसके भाई सनाउल्लाह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। बीते रविवार को इस थाना के छितही चौराहे पर एक निजी बस द्वारा मोटरसाइकिल को रौंद दिये जाने से अब्दुल्लाह की मृत्यु हो गयी थी। वहीं दो अन्य भाई घायल हो गये थे। इस मामले में पुलिस ने निजी बस के मालिक व उसके चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

निजी बस से रौंद दिये जाने से एक युवक की मृत्यु हो गयी थी, इनके दो भाई घायल हुए थे

अंबेडकरनगर जिले के आलापुर थाना के मोलना रसूलपुर गांव निवासी ऋतेश कुमार यादव पुत्र महेंद्र यादव ने महुली थाने में दी गयी तहरीर में यह उल्लेख किया है कि वह एक निजी बस में खलासी का काम करता है। बीते रविवार को सुबह करीब सात बजे वह महुली चौराहे पर बस के साथ पहुंचे। यहां पर सवारी बैठाने की बात को लेकर महुली थाना के भगौतीपुर गांव निवासी इसरार व उनका बेटा सनाउल्लाह उन्हें अपशब्द कहने लगा। विरोध करने पर ये लोग उन्हें मारने-पीटने लगे। जान-माल की धमकी देने लगे। चौराहे पर मौजूद लोगों के हस्तक्षेप से किसी तरह उनकी जान बची। थानाध्यक्ष रवींद्र कुमार सिंह ने कहा कि इन आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

Edited By: Pradeep Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट