संत कबीरनगर: किसानों को किसान सम्मान निधि दी जा रही है। इसके लिए सभी ने अपनी खतौनी और बैंक के पासबुक को संबंधित लेखपालों के पास जमा करवाया। मामला डाटा फीडिग को लेकर अटक गया। इसमें गड़बड़ी होने को लेकर जिले के 16 हजार सात सौ 76 किसानों को योजना के तहत एक रुपये भी नहीं मिल सके हैं। नतीजा है कि तहसीलों पर यह लोग चक्कर काट रहे हैं।

किसानों का कहना है कि दस्तावेजों को देने के बाद भी उनके बारे में सूचनाएं गलत फीड हुईं। इसका परिणाम है कि सरकारी स्तर से उनका आवेदन निरस्त बताया जा रहा है। किसान सम्मान निधि के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या 228266 है। जिसमें से अब तक 196356 किसानों को योजना का लाभ मिला है।

ठीक करवाई जा रही गड़बड़ी

इस बारे में जिला कूषि अधिकारी पीसी विश्वकर्मा ने कहा कि योजना के तहत पात्र किसानों को लाभ दिलाने के लिए हर स्तर से प्रयास किया जा रहा है। किसी कारण से सूचनाओं को फीड करने में गलती होने से जिन किसानों को धन नहीं मिल पा रहा है। 22 मार्च तक डाटा को ठीक कर दिया जाएगा। इसके लिए युद्ध स्तर पर कार्य करवाया जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस